आरटीआई कार्यकर्ता से मारपीट

9 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक

अजमेर।

रीजनल कॉलेज से आरटीआई (राइट टू इन्र्फोमेशन) एक्ट के तहत सूचनाएं मांगने पर एक बीपीएल कार्डधारी आरटीआई कार्यकर्ता को कॉलेज में बुला कर पीटा गया बताया। कार्यकर्ता ने शुक्रवार को क्रिश्चियन गंज थाने में कॉलेज के अनुभाग अधिकारी पर सूचनाएं नहीं देने और मारपीट करने का आरोप लगाते हुए शिकायत दर्ज कराई है। पुलिस मामले की जांच कर रही है।


पुलिस के मुताबिक पाल बीचला निवासी रवींद्र सिंह राठौड़ ने रीजनल कॉलेज के अनुभाग अधिकारी ईश्वरलाल व 15-20 अन्यों के खिलाफ शिकायत दी है। शिकायत में पीडि़त राठौड़ ने बताया कि विगत चार-पांच माह में क्षेत्रीय शिक्षा संस्थान (रीजनल कॉलेज) से आरटीआई एक्ट के तहत सूचनाएं मांगी थीं। संस्थान ने आरटीआई पत्र के जवाब देते हुए सूचनाएं प्राप्त करने के लिए कार्यालय में बुलाया। पत्र में आने-जाने का खर्चा दिए जाने व दैनिक मजदूरी देने के लिए कहा गया। इस पर राठौड़ सूचना लेने कॉलेज पहुंचा।


वहां कमरा नंबर 2 में ईश्वरलाल नाम का व्यक्ति मिला उसने 15-20 लोगों को बुलाकर यह कहते हुए कमरे में बंद कर दिया कि तू बहुत सूचना मांगता है। पीडि़त राठौड़ का आरोप है कि ईश्वरलाल ने थप्पड़ जड़ दिया, धक्का मुक्की कर कॉलेज से बाहर निकाल दिया और पुन: सूचना मांगने पर जान से मारने की धमकी दी। पीडि़त ने बताया कि उसने सूचना के अधिकारी के तहत दिए पत्र के साथ बीपीएल कार्ड की प्रमाणित कॉपी भी संलग्न की थी। इसके बावजूद ईश्वरलाल ने पत्र में काट छांट कर बीपीएल की फोटो कॉपी फाड़कर मुंह पर फेंक दी। पीडि़त ने पुलिस से न्याय की गुहार लगाई है।


इनका कहना है...

॥कुछ लोग अनावश्यक रूप से परेशान करने के लिए बीपीएल कार्डधारियों के मार्फत सूचनाएं मांग रहे हैं। रवींद्र सिंह कॉलेज आया था। उसने जो सूचनाएं मांगी, उनका रिकार्ड उसके सामने रख दिया गया था। उससे जब बीपीएल कार्ड दिखाने के लिए कहा गया तो उसने इंकार कर दिया। मारपीट का आरोप निराधार है।Ó
ईश्वरलाल,
अनुभाग अधिकारी, रीजनल कॉलेज
॥रवींद्र सिंह राठौड़ नाम के युवक ने खुद को आरटीआई कार्यकर्ता बताते हुए रीजनल कॉलेज के किसी ईश्वरलाल के खिलाफ मारपीट करने की शिकायत पेश की है। मामले की जांच की जा रही है।Ó
डॉ. वनिता शर्मा, प्रशिक्षु आरपीएस