• Hindi News
  • National
  • मां की जघन्य हत्या में बेटे बहू पोते को उम्रकैद

मां की जघन्य हत्या में बेटे-बहू पोते को उम्रकैद

4 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
अलवर के मालवीय नगर का मामला

अलवर| शहरकी मालवीय नगर कॉलोनी में करीब पौने चार साल पहले 85 वर्षीया वृद्धा की जघन्य हत्या के मामले में अपर सेशन न्यायाधीश संख्या 2 देवेंद्रसिंह नागर ने मृतका के बेटे, बहू पोते को दोषी माना है। लोहे के सरिए पत्थरों से मारपीट तथा मुंह में सरिया घुसाकर वृद्धा की हत्या करने के अपराध में अदालत ने मालवीय नगर निवासी नरेंद्र शर्मा पुत्र बनवारी लाल शर्मा, मनीष पुत्र नरेंद्र शर्मा तथा बबीता प|ी नरेंद्र को आजीवन कारावास 10-10 हजार रु. के जुर्माने की सजा सुनाई है।

अपर लोक अभियोजक दिलीप कुमार जैन परिवादी के अधिवक्ता गोपीचंद वर्मा एवं प्रतीक कुमावत ने बताया कि बनवारीलाल शर्मा ने अरावली विहार थाने में रिपोर्ट दर्ज करवाई कि वह मालवीय नगर स्थित मकान में प|ी गुलकंदी देवी के साथ रहता था। मकान में ऊपर की मंजिल पर एक किराएदार धर्मेंद्र भी रहता था। बीस अक्टूबर 2013 की रात 11 बजे बनवारी लाल अलवर से राजगढ़ में अपने दूसरे बेटे भगवान सहाय शर्मा के पास गया था।

राजगढ़ प्रवास के दौरान 30 अक्टूबर 2013 को सुबह 6 बजे बनवारी लाल की गुलकंदी देवी से फोन पर बात हुई थी। फोन पर गुलकंदी ने बनवारी लाल को जल्दी अलवर में घर जाने को कहा था। इस पर बनवारी लाल उसी दिन सुबह 10 बजे राजगढ़ से मालवीय नगर तिराहे पर पहुंचा, वहां उसे किराएदार धर्मेंद्र शर्मा मिला। उसने बनवारी को बताया कि गुलकंदी देवी घर पर नहीं है। धर्मेंद्र ने बताया कि उसने गुलकंदी देवी को आसपास सभी जगह तलाश भी किया है। शेष|पेज18

प|ीका कहीं पता नही लगने पर बनवारी लाल लादिया मोहल्ले में रहने वाली अपनी बेटी चंदा के पास गया। वहां से उसने बेटी चंदा अपने पोते दीपक को मालवीय नगर वाले मकान पर भेजा। मालवीय नगर पहुंचकर पोते दीपक ने बनवारी लाल को फोन पर बताया कि गुलकंदी देवी पूजा वाले कमरे में मृत पड़ी है। इस पर बनवारी लाल मालवीय नगर अपने पहुंचा, जहां उसकी प|ी गुलकंदी की लाश पड़ी मिली। पुलिस रिपोर्ट में बनवारी लाल ने बताया कि मेरा बेटा नरेंद्र मुझसे मेरी प|ी से रोजाना शराब पीकर झगड़ा करता जान से मारने की धमकी देता था। नरेंद्र ने 20 अक्टूबर 2013 को मुझसे जबरन 4 लाख रुपए का एक चेक लिया था। बैंक खाते में रकम नहीं होने से यह चेक वापस हो गया था। इसी रंजिश के कारण मेरे पुत्र नरेंद्र, उसकी प|ी बबीता उसके पुत्र मनीष ने गुलकंदी देवी के मुंह में सरिया घुसाकर उसकी हत्या कर की।

पुलिस ने अनुसंधान के दौरान हत्या में काम लिया गया लोहे का सरिया बरामद कर तीनों आरोपियों के खिलाफ अदालत में चालान पेश किया गया। अदालत ने पोस्टमार्टम के दौरान मृतका के मुंह से लोहे का सरिया बरामद हाेने तथा एफएसएल रिपोर्ट में भी जब्त किए गए सरिए पर मानव रक्त पाए जाने पत्रावली पर आई साक्ष्य के आधार पर मामले में तीनों को गुलकंदी की हत्या के आराेप में दोषी करार देते हुए यह सजा सुनाई है।

अलवर. वृद्धा गुलकंदी देवी बनवारी लाल के साथ परिवार के सदस्य। फाइल फोटो

खबरें और भी हैं...