पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • National
  • शिव परिवार की मूर्तियों की स्थापना हुई

शिव परिवार की मूर्तियों की स्थापना हुई

4 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
कस्बेके निहालपुरा में नवनिर्मित शिव मंदिर में शिवरात्रि को योग गुरु बाबा रामदेव की माताजी गुलाब देवी एवं पिताजी रामनिवास यादव के सान्निध्य में मंदिर में शिव परिवार की मूर्तियों की स्थापना की गई। दोनों ने मुख्य अतिथि की भूमिका भी निभाई। इस अवसर पर योग गुरु की माताजी ने अध्यात्म की शक्ति के बारे में बताते हुए कहा की मानव सृष्टि में अध्यात्म अपना एक महत्वपूर्ण स्थान है। अध्यात्म की शक्ति मनुष्य को अपने लक्ष्य तक पहुंचाती है। इधर ग्रामीणों ने बताया कि करीब 2 वर्ष पूर्व भूतपूर्व सरपंच कमला देवी को स्वप्न में शिवलिंग के दबे होने की जानकारी मिली थी। इस जानकारी को लेकर ग्रामीणों ने वहां खुदाई की तो इस दौरान स्वयंभू शिवलिंग की मूर्ति मिली। उसी समय ग्रामीणों ने उस जगह पर शिव मंदिर का निर्माण कार्य शुरू कर दिया। मंदिर का कार्य पूर्ण होने पर शुक्रवार को शिवरात्रि के उपलक्ष्य में आचार्य क्रांति निर्मल, शास्त्री राजेश, देवकीनंदन, हेमंत, घनश्याम, भगवान दास द्वारा मंगलाचरण, विधि विधान से अनुष्ठान के साथ शिव परिवार की मूर्तियों की स्थापना की गई। इस दौरान प्रसाद वितरण किया गया। इससे पूर्व कस्बे की 101 महिलाओं ने कलश यात्रा निकाली। वहीं इस दौरान शिव परिवार की मूर्तियों की शोभायात्रा भी निकाली गई। इस अवसर पर महंत रामेश्वर दास के सान्निध्य में ग्रामीणों द्वारा हवन में आहुतियां दी गईं। महिलाओं ने भजन-कीर्तन किया। गौरतलब है कि यहां मंदिर परिसर में 5 दिन से मंत्र जाप, अनुष्ठान एवं भजन-कीर्तन का कार्यक्रम चल रहा है। इस मौके पर सहेंद्र व्याख्याता, सुभाष बाबू, रामजीलाल नम्बरदार, सुल्तान डीएसपी, जगदीश यादव, प्रधानाचार्य यादराम, डॉक्टर दलीप सिंह, खेमराज वकील, डॉक्टर रामसिंह,देवेन्द्र, अमित, राजेश हाड्डा, अभिमन्यु यशपाल, इंदिरा देवी, रामगिरी, सुदेश, संतोष, मूर्तिदेवी, कविता, सविता, कमलेश, बिमला, देवदत्त आदि मौजूद रहे।

बहरोड़:गांवकल्याणपुरा में अलवर रोड स्थित राधा-कृष्ण मंदिर परिसर में शुक्रवार को शिव परिवार मूर्ति स्थापना विधि-विधान से की गई। राव दिनेश यादव ने बताया कि गांव के स्वर्गीय चिरंजीलाल के परिवार द्वारा शिव परिवार की मूर्ति स्थापना विधिवत हवन-पूजन के साथ की गई। इस दौरान पं. हरिमोहन मिश्रा, दिनेश शास्त्री, पं. महेश कुमार मिश्रा द्वारा वैदिक मंत्रोच्चार के साथ मूर्ति स्थापना की गई। इस दौरान सतवीर यादव, राजेन्द्र सिंह, रत्तिराम यादव, भीम सिंह, दिनेश कुमार, नवल किशोर, जसवीर, शमशेर सिंह, हवासिंह सहित बड़ी संख्या में महिलाएं लोग मौजूद रहे।

योगसे जिएं स्वस्थ जीवन

बाबारामदेव की माताजी गुलाब देवी से जब उनकी दिनचर्या के बारे में पूछा तो उन्होंने बताया कि मैं 65 वर्ष की हो गई हूं। मुझे कोई रोग नहीं है। मैं सुबह 4 बजे उठकर 1 घंटे तक 2 किलोमीटर की पैदल यात्रा करती हूं और एक घंटा योगासन करती हूं। मैं सबको योग करने की सलाह देती हूं। योग गुरु के पिता रामनिवास यादव ने बताया कि मैं योग करके स्वस्थ जीवन जी रहा हूं। मुझे किसी प्रकार की कोई दिक्कत या समस्या नहीं है।

कायसा. शिव मंदिर पर मूर्ति स्थापना के दौरान योग गुरु बाबा रामदेव के माता-पिता।

खबरें और भी हैं...