पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • National
  • कृषि भूमि पर बने दो मैरिज होम यूआईटी ने किए सीज, कार्रवाई से संचालकों में हड़कंप

कृषि भूमि पर बने दो मैरिज होम यूआईटी ने किए सीज, कार्रवाई से संचालकों में हड़कंप

5 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
असमंजस में हैं मैरिज होम संचालक

गौरतलब है कि यूआईटी ने पिछले दिनों 29 मैरिज होम संचालकों को नोटीस देकर इन्हें बंद करने के निर्देश दिए थे। लेकिन नोटिस में उन्होंने यह स्पष्ट नहीं किया कि क्या इस कृषि भूमि का व्यवसायिक भूमि में भू-रूपांतरण हो सकता है या नहीं। इसके चलते सभी मैरिज होम संचालक असमंजस में है।

15ने लिया कोर्ट से स्टे

न्यासके प्रभारी एआरओ मनोज मित्तल के अनुसार नोटिस के बाद से अब तक कुल 15 लोगों ने कोर्ट से स्टे लिया है। पिछले दिनों 8 और सोमवार को सीज की कार्रवाई के बाद 6 लोगों ने कोर्ट से स्टे लिया है।

दो मैरिज होम पर नहीं हुई कार्रवाई, इस माह है कई सावे, संचालकों से हुई नोकझोंक

भास्कर संवाददाता | अलवर

कृषिभूमि पर बने मैरिज होमो के खिलाफ यूआईटी ने कार्रवाई शुरू कर दी है। कटी घाटी से ढाई पैड़ी जाने वाले रोड पर सोमवार को राठिया रिर्सोट राधिका कुंज गार्डन सीज कर दिए गए। इन दोनों गार्डन में फरवरी माह में ही छह विवाह समारोह के लिए बुक हैं। न्यास की इस कार्रवाई से आसपास स्थित अन्य मैरिज होम संचालकों में हड़कंप मच गया।

यूआईटी ने 27 जनवरी और 3 फरवरी को कटी घाटी के आसपास कृषि भूमि पर बने 29 मैरिज होम संचालकों को गैर कृषि प्रयोजनार्थ उपयोग में लेने के लिए 90ए के तहत नोटिस देकर तीन दिवस में बंद कर अपना पक्ष रखने के निर्देश दिए थे। इसके बाद संचालक एकत्र होकर शहर विधायक, यूआईटी चेयरमैन सहित यूआईटी सचिव से भी मुलाकात भी की थी। सोमवार को यूआईटी अधिकारी सबसे पहले कटी घाटी के निकट स्थित अतिथि रिसोर्ट पहुंचे और इसके एक गेट को सीज कर मालिक को सूचना दी गई। इस दौरान पता लगा कि रिसोर्ट के दो मालिक है, जिसमें से एक गोकुल अरोड़ा का देहांत हो गया है और सोमवार को उनके तीये की बैठक थी। इसके बाद यहां कार्रवाई टाल दी गई। इसके बाद यूआईटी की टीम गोल्डन बाग पहुंची। यहां महिला संगीत कार्यक्रम चल रहा था, इसलिए यहां भी सीज की कार्रवाई नहीं की गई। अधिकारियों ने संचालक से गार्डन को मंगलवार को सीज करने की बात कही। यहां से टीम राठिया रिसोर्ट राधिका कुंज गार्डन पहुंची। यहां पर टीम की संचालकों के साथ नोक झोंक हुई। संचालकों ने विरोध करते हुए पक्षपात का आरोप लगाया। इस दौरान मौके पर यूआईटी सचिव हिमांशु गुप्ता भी गए। वे गार्डन संचालकों से बातचीत कर चले गए। बाद में अरावली विहार थानाधिकारी ने संचालकों को शांत किया और दोनों गार्डनों को सीज कराया।

जिसगार्डन को मंत्री ने बुक कराया, उसकी हटाई सील

दोनोंगार्डन के संचालक कैलाश गोयल ने बताया कि फरवरी में ही दोनों गार्डन में छह विवाहों की बुकिंग थी। इनमें 12,13,16,20,23,28 तारीख के छह सावे बुक हैं। इसके अलावा मार्च में भी काफी बुकिंग है। अतिथि रिर्सोट के संचालक मदन अरोड़ा ने बताया कि एक गेट पर लगी सील को अधिकारियों ने हटा दिया है। उनके गार्डन में भी करीब 8-10 शादियां फरवरी में है। मंत्री हेमसिंह भडाना ने मार्च माह में एक शादी समारोह के लिए गार्डन बुक किया है। शहर में शादियों का दौर जारी है, पूरी फरवरी में कई सावे है। लोगो ने शादी के लिए मैरिज माडर्न भी बुक कर दिए है लेकिन यूआईटी द्वारा शुरू की गई कार्रवाई से हड़कंप मचा हुआ है।

अलवर. यूआईटी द्वारा सीज किया गया अतिथि रिसोर्ट मैरिज होम का गेट।

एक मैरिज होम को सीज करते यूआईटी अधिकारी कर्मचारी।

खबरें और भी हैं...