• Hindi News
  • National
  • प्रेमी के साथ मिलकर काटा 3 बेटों, पति भतीजे का गला

प्रेमी के साथ मिलकर काटा 3 बेटों, पति भतीजे का गला

4 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
शिवाजीपार्क में चार दिन पहले पिता, तीन पुत्र और भतीजे की गला काट कर की गई हत्या में पुलिस ने महिला, उसके प्रेमी भाड़े पर लिए गए दो कातिलों को गिरफ्तार कर लिया है। प्रेमी के साथ रहने के लिए मां ने ही अपने तीन बेटे, भतीजे और पति की हत्या करवा दी। पुलिस ने इस मामले में मृतक बनवारी की प|ी संतोष शर्मा(36) उसके प्रेमी बड़ौदामेव निवासी हनुमान प्रसाद जाट(25), गुजूकी निवासी कपिल धोबी (19) तथा डीग के पांडव मोहल्ला हाल गुजूकी निवासी दीपक धोबी को गिरफ्तार किया है।

हनुमान प्रसाद जाट उदयपुर से बीपीएड कर रहा है। संतोष ताइक्वांडो सिखाती है। दोनों की ढाई साल पहले दोस्ती हुई थी। यह दोस्ती अवैध संबंधों में बदल गई। हत्या से पहले महिला ने खाने में परिवार को नींद की गोलियां दी थी। जिस समय कमरे में बेटों पति भतीजे को चाकुओं से काटा जा रहा था, महिला सीढिय़ों के पास खड़ी देख रही थी। एसपी राहुल प्रकाश ने बताया कि 2 अक्टूबर की रात शिवाजी पार्क निवासी बनवारीलाल शर्मा(45), उसका बेटा मोहित (17), हैपी (15) अज्जू (12) तथा भतीजा निक्की (10) की गला रेत कर हत्या कर दी गई। पांचों का गला काटा गया और शरीर पर चाकू के गहरे घाव थे। हत्या में प्रथम दृष्टया किसी परिचित का हाथ होने की आशंका थी। पुलिस ने मामले के खुलासे के लिए कई टीमें बनाई। संदेह के दायरे में बनवारीलाल शर्मा की प|ी संतोष शर्मा थी। जांच में पता लगा कि संतोष के हनुमान प्रसाद जाट से प्रेम प्रसंग चल रहा है। दोनों के प्रेम प्रसंग में पति बड़ा बेटा मोहित रोडा साबित हो रहे थे। दोनों शादी भी करना चाहते थे। बेटे पति को रास्ते हटाने के लिए महिला उसके प्रेमी ने प्लान बनाया। पहले चरण में बात हुई कि पति को खत्म कर दिया जाए। इसके लिए हनुमान ने पैसे का लालच देकर कपिल दीपक को हत्या के लिए तैयार कर लिया। इसके लिए दो चाकू खरीदे। उसने संतोष से कहा कि वह अपने स्तर पर उसे निपटा देगा। हत्या के समय कोई विरोध नहीं हो, इसके लिए उसने नींद की गोलियां खरीदकर संतोष को दे दी। 2 अक्टूबर की रात को संतोष ने दही नमकीन के रायते में नींद की गोलियां पीस कर मिला दी। रात को परिवार को खाना खिला दिया। बड़े बेटे मोहित की तबीयत खराब होने के कारण उसने खाना नहीं खाया। प्लानिंग के अनुसार रात 10 बजे हनुमान गली में आया। छत पर खड़ी संतोष से उसकी इशारों में बात हुई। शेषपेज 4 पर

खबरें और भी हैं...