• Hindi News
  • देश विरोधियों के खिलाफ हो कार्रवाई

देश विरोधियों के खिलाफ हो कार्रवाई

6 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
कंपनीबाग में रविवार को राजनीतिक एवं सामाजिक कार्यकर्ताओं की सभा हुई। इसमें दिल्ली के जवाहर लाल नेहरु विश्वविद्यालय में चल रहे विवाद पर विस्तार से चर्चा की गई और भारत के खिलाफ नारेबाजी करने वालों की कड़ी भर्त्सना कर कार्रवाई की मांग की। साथ ही निर्दोष जेएनयू के छात्रसंघ अध्यक्ष कन्हैया कुमार की गिरफ्तारी पर रोष जताया गया। इस मौके पर वक्ताओं ने कहा कि जेएनयू में आयोजित सांस्कृतिक इवेंट में कुछ लोगों ने राष्ट्र विरोधी नारे लगाए, जिसमें एबीवीपी कार्यकर्ताओं का नारेबाजी कर रहे छात्रों से विवाद हो गया। इस दौरान जेएनयू छात्रसंघ अध्यक्ष कन्हैया कुमार बीच-बचाव करने पहुंच गया। इस पर पुलिस ने छात्रसंघ अध्यक्ष को गिरफ्तार कर उसके खिलाफ राजद्रोह का झूठा केस लगा दिया है। वक्ताओं ने कहा कि जेएनयू धर्मनिरपेक्षता, समाजवाद एवं वैचारिक स्वतंत्रता का प्रतीक रहा है, लेकिन वैचारिक द्वेषता के चलते विश्वविद्यालय में आरएसएस, भाजपा एबीवीपी के कार्यकर्ता केंद्र सरकार की शह पर वामपंथी धर्मनिरपेक्ष संगठनों पर हमला करना चाहते हैं। उन्होंने सरकार से इस प्रकरण की स्वतंत्र न्यायिक जांच कराने की मांग की तथा जेएनयू में इस प्रकरण में एबीवीपी की संलिप्तता की जांच की मांग की। वक्ताओं ने पाकिस्तान के समर्थन में तथा भारत के खिलाफ नारेबाजी करने वालों के खिलाफ कानूनी कार्रवाई की मांग की। सभा में सेवानिवृत्त कला कॉलेज प्राचार्य महादेव प्रसाद चतुर्वेदी, जेपी व्यास, जगदीश शर्मा, एसएफआई छात्र नेता रइसा, अशोक कुमार, विमलेश चतुर्वेदी, जीतेंद्र नरुका आदि ने विचार रखे। इस अवसर पर तेजपाल सैनी, जय मिश्रा, राजकुमार बख्शी, भोला राम शर्मा, मामराज सैनी, शब्बीर खान, रवि वर्मा आिद मौजूद थे।

अलवर. कंपनी बाग में जेएनयू विवाद पर चर्चा करते सामाजिक कार्यकर्ता।