पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • National
  • प्रधानाचार्य चापलूसों से दूरी बनाएं, हर काम और विषय में दक्षता रखें, तभी साबित होंगे बेहतर प्रशास

प्रधानाचार्य चापलूसों से दूरी बनाएं, हर काम और विषय में दक्षता रखें, तभी साबित होंगे बेहतर प्रशासक : कठात

4 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
भास्कर संवाददाता| बांसवाड़ा

माध्यमिकशिक्षा विभाग की आेर से दो दिवसीय सत्रांत वाकपीठ का आयोजन न्यू लुक स्कूल परिसर में किया गया। जिलेभर के राजकीय और निजी स्कूलों से करीब 450 प्रधानाचार्य इस वाकपीठ में हिस्सा ले रहे हैं। पहली बार प्रधानाचार्यों की इस वाकपीठ में प्रबंधन के गुर विश्वविद्यालय के रजिस्ट्रार सोहनलाल कठात ने बताए।

करीब 45 मिनट तक अपने संबोधन में उन्होंने स्कूल में बेहतर प्रशासक के लिए प्रधानाचार्य को क्या करना चाहिए और किस तरह से करना चाहिए, रिजल्ट और स्कूल की साख बढ़िया कैसे बनाई जा सके, इसके लिए सुझाव बताए।

कठात ने कहा कि प्रधानाचार्य को चापलूसी करने वाले शिक्षक से दूरी बनाई रखनी चाहिए। वह एक बार मिठाई खिलाकर 4 दिन तक अवकाश पर रह सकता है। हर काम और अपने विषय में दक्षता रखनी होगी, ताकि बच्चों की समस्याओं काे समझने में मदद मिलेगी। समाधान भी सकारात्मक हो सकेगा। कुछ उदाहरण देकर बताया कि स्वयं, स्कूल और बच्चों को बेहतर कैसे बना सकते हैं। उन्होंने वित्तीय प्रबंधन की भी जानकारी दी।

माध्यमिक शिक्षा बोर्ड के पूर्व अध्यक्ष भरतराम कुम्हार ने कहा कि संस्कार, समय और सदुपयोग से ही हम बच्चों को बेहतर बना सकते हैं। बच्चा कमजोर भी हो सकता है, बच्चा होशियार भी हो सकता है और बच्चा मंदबुद्धि भी हो सकता है, लेकिन उसे किस तरह से संवारना है, यह कला एक शिक्षक और संस्थाप्रधान के लिए आवश्यक है। करीब 20 मिनट के संबोधन में कुम्हार ने स्कूल के विकास पर भी चर्चा की। वाकपीठ में उम्मेदगढ़ी के प्रधानाचार्य ने मनोज जोशी ने कलेक्टर की योजना अलख के प्रभावी क्रियान्वयन पर भी वार्ता प्रस्तुत की। कार्यक्रम में पूर्व डीईओ पुष्पेंद्र पंड्या, न्यू लुक के निदेशक प्रदीप कोठारी, हाल ही में डीईओ बने मावजी खांट ने भी संबोधित किया। डीईओ फूलशंकर मीणा ने प्रशासनिक व्यवस्थाओं की जानकारी दी।

संस्थाप्रधानों की वाकपीठ में मंचासीन कॉलेज रजिस्ट्रार और शिक्षा अधिकारी।

खबरें और भी हैं...