• Hindi News
  • National
  • जीएसटी के खिलाफ हड़ताल रखेंगे मार्बल उद्यमी

जीएसटी के खिलाफ हड़ताल रखेंगे मार्बल उद्यमी

4 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
बांसवाड़ा| सरकारकी ओर से 5 फीसदी से बेतहाशा इजाफा कर मार्बल पर 28 फीसदी जीएसटी लगाने के खिलाफ जिले के मार्बल उद्यमी हड़ताल को जारी रखेंगे। यह निर्णय शुक्रवार को ठीकरिया औद्योगिक क्षेत्र में आयोजित मार्बल एसोसिएशन की बैठक में किया गया। हालांकि कुछ सदस्यों ने इस निर्णय से इत्तेफाक नहीं रखते हुए एसोसिएशन अध्यक्ष को बांसवाड़ा के औद्योगिक विकास में रुकावट आने और श्रमिक वर्ग के प्रति सहानुभूति रखे जाने का आग्रह किया है।

एसोसिएशन के वरिष्ठ पदाधिकारी बसंतलाल लखोरिया की अध्यक्षता में हुई बैठक में लंबी चर्चा के बाद सभी कारोबारियों ने खदानों से लदान, गैंग सा और कटर मशीनें बंद रखने पर सहमति जताई। एसोसिएशन अध्यक्ष किशनसिंह तंवर ने बताया कि किशनगढ़, राजसमंद सहित प्रदेश की सभी बड़ी मार्बल मंडियां जीएसटी के खिलाफ हैं और कारोबार बंद रखकर आंदोलनरत है। बैठक में सचिव मनोज अग्रवाल, राधेश्याम मालपानी, अजय गुप्ता, अशोक अग्रवाल, जैनेंद्र वोरा, विनोद जैन नरपत जैन सहित 40 से ज्यादा सदस्य मौजूद थे। इस बैठक में कई तरह के सुझाव दिए गए।

एसोसिएशन के वरिष्ठ पदाधिकारी विशंभर अग्रवाल ने शुक्रवार शाम को संगठन के निर्णय को लेकर दोतरफा बातें सामने आने पर कहा कि पूरी एसोसिएशन एक है। हालांकि हमने और कुछ साथी सदस्यों ने अध्यक्ष को लिखित में दिया है कि उदयपुर में प्रोसेसिंग समिति ने हड़ताल नहीं कर रखी है, इसलिए वहां उत्पादन चालू कर रखा है। हमें यह बिन्दु भी देखना चाहिए। वैसे भी लगातार हड़ताल से बांसवाड़ा का औद्योगिक विकास प्रभावित होता है। सथानीय आर्थिक व्यवस्था पर प्रतिकूल असर पड़ता है, जिसके नतीजन बेराेजगारी को बढ़ावा मिलता है। फैक्ट्रियों के श्रमिक वर्ग को काम नहीं मिलेगा तो वह खाएगा क्या, इसमें सैकड़ों श्रमिकों के परिवारों के सामने रोज का संकट खड़ा हो जाता है, लिहाजा हमें इन बिन्दुओं पर सहानुभूतिपूर्वक विचार करना चाहिए, जो कि स्थानीय स्तर पर सर्वमान्य हित की पूर्ति कर सके।

वाणिज्यिक कर विभाग की ओर से आयोजित कार्यशाला में मौजूद व्यापारी।

राेहनवाड़ी. गांगड़तलाईपंचायत समिति सभागार में शुक्रवार को वाणिज्यिक कर विभाग की ओर से आयोजित जागरूकता कार्यशाला में क्षेत्र के व्यापारियों को वस्तु एवं सेवा कर यानी जीएसटी के प्रावधान बताए गए। कार्यशाला मे विभाग के एसीटीओ जगन्नाथ प्रसाद जाट ने नई कर व्यवस्था जीएसटी में पंजीयन, कंपाेजिशन स्कीम, अलग-अलग इनवायस तैयार करने के तरीके बताए। साथ ही रिटर्न फाइल करने की प्रक्रिया समझाई। कार्यशाला में एसीटीओ केसूलाल मीणा ने बताया कि राज्य से बाहर से माल की खरीद पर इनपुट टैक्स क्रेडिट मिलेगा। अंत में व्यापारियों की ओर से पूछे सवालों के जवाब देकर संतुष्ट करने का प्रयास किया गया। अधिकारियों ने व्यापारियों से जीएसटी को लेकर चल रहे भ्रम से दूर रहने की अपील कर इसकी प्रक्रिया सरल और व्यावहारिक बताई और पोर्टल पर अासानी से संभव रिटर्न दाखिल करने की प्रक्रिया बताई। कार्यक्रम में शेरगढ़ के कारोबारियों मुकेश पारीक, जयंतीलाल कलाल, दीपेश अग्रवाल, महेश कुमार, प्रवीण अग्रवाल के अलावा भलेर, राेहनवाड़ी, गांगड़तलाई और सल्लोपाट व्यापारी शामिल हुए। संचालन आभार नीतिन खराड़ी ने किया।

खबरें और भी हैं...