• Hindi News
  • अब मंगलवार की जगह माह के दो शनिवार को लगेगी बिजली चौपाल

अब मंगलवार की जगह माह के दो शनिवार को लगेगी बिजली चौपाल

6 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
भास्कर संवाददाता | बांसवाड़ा

बिजलीनिगम की ओर आम उपभोक्ताओं की समस्याओं का समाधान करने के लिए 33/11 केवी जीएसएस पर मंच दिया था। हर मंगलवार को शिविर लगाकर समाधान किया जाता था। अब इसके लिए निगम ने नियम और जगह में बदलाव किया है। अब तक जीएसएस पर ही लगने वाले इन शिविरों का स्थान बदलकर सीधे ही सहायक अभियंता कार्यालय कर दिया है। इसके साथ ही प्रत्येक मंगलवार की जगह अब महीने के दूसरे और चौथे शनिवार को सहायक अभियंता कार्यालय में शिविर लगेगा।इसके साथ ही शिविर का चेहरा भी बदला गया है।

पहली बार एईएन उपभोक्ताओं के सवालों के जबाव देंगे और उनकी समस्याओं का निराकरण भी करेंगे। इसके लिए उपभोक्ता का नाम, पता, मोबाइल नंबर, खाता संख्या, शिकायत का ब्यौरा नोट होगा। यदि मौके पर ही निस्तारण होने की संभावना होगी, तो वहीं पर निबटारा किया जाएगा। ऐसा संभव नहीं होने पर 3 दिन में जेईएन या तकनीकी विशेषज्ञ उपभोक्ता की शिकायत का निस्तारण करेंगे। यह पूरा प्रकरण बिजली निगम की वेबसाइट पर ऑनलाइन करना होगा, ताकि जानकारी अजमेर विद्युत वितरण निगम को हो सके।

एक्सईएन करेंगे माॅनिटरिंग : अबशिविरों की मॉनिटरिंग की जिम्मेदारी सीधे ही एक्सईएन को दी गई है। ताकि एक्सईएन को इस बात की पूरी जानकारी रहे कि किस एईएन कार्यालय के कितने उपभोक्ता परेशान हैं या उनकी समस्याएं हैं। एक्सईएन एनएच मंसूरी बताते हैं कि मूल उद्देश्य यही है कि किसी भी उपभोक्ता को तकनीकी रूप से कोई समस्या नहीं आए। आती है तो समाधान भी तत्काल किया जाए। इसका सबसे बड़ा फायदा यही होगा कि किसी भी ग्रामीण उपभोक्ता को शहर में नहीं आना पड़ेगा और उसका काम एईएन कार्यालय पर ही हो जाएगा।

सकारात्मकपक्ष-समस्या कोई भी हो, निदान तय

इससिस्टम का सकारात्मक असर यह है कि उपभोक्ताओं की समस्याओं का तत्काल समाधान मिलता है। साथ ही बिजली उपभोक्ता की भी आदत बनती है जो कम से कम एक बार एईएन कार्यालय तक पहुंचे और जानकारी लें।

नकारात्मकपक्ष - नेताओं की ही ज्यादा शिकायतें

खासबातयह है कि इस तरह के शिविरों में उपभोक्ता कम, लेकिन नेताओं की शिकायतें ज्यादा रहती है। हर शिकायत के साथ नेता होने का रुआब भी होता है। ऐसे में आम उपभोक्ता की शिकायत को तवज्जो नहीं मिल पाती है।