पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • National
  • मोटापे में बाड़मेर के पुरुष प्रदेश में 7वें महिलाएं 19वें नंबर पर

मोटापे में बाड़मेर के पुरुष प्रदेश में 7वें महिलाएं 19वें नंबर पर

5 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
स्वास्थ्यके प्रति लापरवाही से जिले के पुरुषों का मोटापा बढ़ता जा रहा है। मोटापे के शिकार लोगों का नेशनल फेमिली हेल्थ सर्वे 2016 की रिपोर्ट में बाड़मेर के पुरुष मोटापे में सातवां महिलाएं 19 वां स्थान पा चुकी है। यानि जिले के बाड़मेर 11.7 फीसदी महिलाएं 15 फीसदी पुरूष मोटापे के शिकार है।

प्रदेश के 33 जिलों की रिपोर्ट में गंगानगर के पुरुष और कोटा की महिलाएं सबसे आगे हैं। राजधानी जयपुर महिलाओं के मोटापे में छठे नंबर पर है। सर्वे के मुताबिक पुरुषों में गंगानगर में प्रदेश के अन्य बड़े शहरों के मुकाबले सबसे ज्यादा 24.4 फीसदी पुरुष मोटापे के शिकार हैं, जबकि दूसरे नंबर पर अजमेर में 18.8 फीसदी और तीसरे नंबर पर जोधपुर में 18.4 फीसदी पुरुष मोटापे से पीड़ित हैं। अलवर के पुरुषों के मोटापे का ग्राफ 18 फीसदी है। मोटी महिलाओं की संख्या सबसे अधिक कोटा में 20.6 फीसदी है।

दूसरे स्थान पर गंगानगर में 20.5 और तीसरे पर सीकर में 18.4 फीसदी महिलाएं मोटापे से ग्रसित हैं। रिपोर्ट के मुताबिक महिलाओं में मोटापे की वजह से खून की कमी और हाई ब्लड शुगर लेवल की शिकायत बढ़ी है। हालांकि डूंगरपुर में मोटापे की गिरफ्त में पुरुष और महिलाओं का ग्राफ प्रदेश में सबसे कम है। फिजीशियन डॉ. दिनेश परमार खान-पान की आदतों और आरामदायक जीवन को मोटापे की वजह बताते हैं। इसी कारण शुगर के रोगी भी बढ़ रहे हैं। उनका मानना है कि शहर की 70 फीसदी आबादी बैलेंस डाइट नहीं लेती। हार्मोनल बदलाव भी इसका एक बड़ा कारण है।

23 जिलों में पुरुषों से अधिक मोटी महिलाएं

प्रदेशमें 23 जिले ऐसे हैं, जहां पुरुषों से अधिक संख्या मोटी महिलाओं की है। कोटा में 20.6 प्रतिशत महिलाओं के मुकाबले 16.3 प्रतिशत पुरुषों में मोटापा है, जबकि जयपुर में 17.4 प्रतिशत महिलाएं और 14.6 प्रतिशत पुरुष मोटे हैं लेकिन बाड़मेर में महिलाओं के मुकाबले पुरुष अधिक मोटापे के शिकार हैं।

मोटापे से बढ़ रहे शुगर के रोगी

मोटापेके साथ महिलाओं और पुरुषों में शुगर के रोगी बढ़ रहे हैं। सर्वे के मुताबिक झालावाड़ के पुरुषों में शुगर के रोगी 10 प्रतिशत सर्वाधिक हैं, जबकि दूसरे नंबर पर टोंक में 9.9 और तीसरे स्थान पर बारां में 9.2 फीसदी रोगी हैं। इसी प्रकार अजमेर में सर्वाधिक 5.7 फीसदी महिलाएं ब्लड शुगर की शिकार हैं। दूसरे स्थान पर गंगानगर में 5.3 फीसदी और तीसरे पर डूंगरपुर एवं कोटा में 4.6 प्रतिशत महिलाएं शुगर से ग्रस्त हैं। गंगानगर में 5.3 प्रतिशत महिलाएं अधिक और 1.9 फीसदी बहुत अधिक ब्लड शुगर से पीड़ित हैं, जबकि यहां 4.4 प्रतिशत पुरुष अधिक और 3.1 प्रतिशत बहुत अधिक ब्लड शुगर से पीड़ित हैं।

स्वास्थ्य

खबरें और भी हैं...