तप साधना शुरू, पापों से बचने का संकल्प दिलाया

4 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
बीकानेर | जैनश्वेतांबर खरतरगच्छ श्रीसंघ के गच्छाधिपति आचार्य श्री जिन मणिप्रभ सागर सूरिश्वर महाराज के सानिध्य में सिद्धी तप साधना के साथ ही आचार्य श्री रचित अठारह पापस्थानक आलोचना का संगीतमयी कार्यक्रम ढढा कोटड़ी में प्रारंभ किया गया। इस मौके पर मुनि मनित प्रभ सागर महाराज ने पापों से बचने का संकल्प दिलवाया। इस मौके पर सिद्धी तप साधना कार्यक्रम भी शुरु हुआ। कार्यक्रम के तहत शनिवार से 11 गणधर तप प्रारंभ किया जाएगा। आज आचार्य श्री के सानिध्य में धर्म-आध्यात्म जिज्ञासाओं की प्रश्नोत्तरी प्रवचन का आयोजन किया जाएगा।

खबरें और भी हैं...