पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • National
  • आरटीई पोर्टल पर होंगी निजी स्कूलों की जानकारी

आरटीई पोर्टल पर होंगी निजी स्कूलों की जानकारी

4 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
राज्यसरकार ने निजी स्कूलों के लिए शुरू किए (नि:शुल्क शिक्षा का अधिकार) आरटीई पोर्टल में बड़ा बदलाव किया है। सभी निजी स्कूलों को हर जानकारी 31 जुलाई तक आरटीई पोर्टल पर ऑनलाइन दर्ज करनी है। कक्षा वाइज नामांकन और फीस चार्ज बताना होगा। नॉन आरटीई के कुल बच्चों की जानकारी ऑनलाइन देने के बाद ही आरटीई के बच्चों काे प्रवेश देना पड़ेगा। विषयवार शैक्षणिक योग्यता सहित प्रत्येक स्टाफ की सूचना दर्ज करनी होगी। इसके साथ स्टाफ की नियुक्ति और इस्तीफे की सूचना भी समय पर अपडेट करनी होगी। ऑनलाइन ही टीसी कटेगी और ऑनलाइन ही प्रवेश की सूचना अपडेट होगी। आरटीई के तहत होने वाले प्रवेशों में गड़बड़ी और फीस बढ़ाने टीसी काटने में निजी स्कूलों की मनमानी को लेकर सरकार ने कदम उठाया है। अब निजी स्कूलों की हर गतिविधियों की जानकारी सरकार के पास रहेगी। शिक्षा विभाग के अधिकारी पोर्टल पर ऑनलाइन दर्ज जानकारी का मौके पर सत्यापन कर सकेंगे।

नवीन योजना से उन अभिभावकों को भी लाभ होगा जो कि नि:शुल्क शिक्षा का अधिकार के तहत अपने बच्चों को पढ़ाना चाहते हैं और निजी स्कूला में प्रवेश कर चुका हैं। अब स्कूल संचालक किसी भी प्रकार का गलत तथ्य बता कर बच नहीं पाएंगे। साथ ही शिक्षा विभाग की ओर से नियमों की पालना सख्ती से कराई जाएगी। हालांकि इनमें कई नियम ऐस हैं जिनकी पालना निजी स्कूलों को अगले सत्र में करनी है, पर अभी इसकी तैयारियों में विभाग जुट गया है। साथ ही स्कूलों में मनमर्जी का स्टाफ नहीं रखा जा सकेगा। स्कूलाें को अब प्रशिक्षित के साथ ही निर्धारित संख्या में शिक्षक रखने होंगे। इससे सैकड़ों लोगों को रोजगार मिल सकेेगा और स्कूलों में पढ़ाई का स्तर भी बढ़ेगा। यानी कि अभिभावक और सरकार दोनों की मंशा पूरी होगी।

ये प्रमुख जानकारी देनी होगी

-स्कूल का स्थानीय पता, विधानसभा क्षेत्र और सोसायटी का नाम उसके सदस्य की सूचना। स्कूल का (हिंदी-अंग्रेजी)माध्यम और मान्यता संबंधी जानकारी।

- खेल मैदान, स्टाफ छात्र-छात्राओं के अलग-अलग टॉयलेट, स्कूल में प्रत्येक कक्षा कक्ष का आकार, भवन सुरक्षा प्रमाण पत्र और अतिरिक्त गतिविधियों की सूचना।

- विज्ञान संकाय के स्कूल में रसायन, जीव या फिर भौतिक विज्ञान प्रयोगशाला के अलावा कम्प्यूटर लेब की जानकारी।

- स्कॉलर रजिस्टर नंबर, जिससे प्रत्येक बच्चे की जानकारी ऑनलाइन होगी।

फॉर्मेट में कोई भी कॉलम खाली रहा तो आवेदन नहीं होगा स्वीकार

आरटीईप्रभारी नेमचंद शर्मा ने बताया कि पहले निजी स्कूलों को सिर्फ आरटीई-नॉन आरटीई के प्रवेशित बच्चों सहित स्कूल से संबंधित सामान्य जानकारी पोर्टल पर दर्ज करनी होती थी। अब पूरे डेटा की ऑनलाइन मॉनिटरिंग संभव होगी। पोर्टल पर नया फॉर्मेट दिया गया है, अगर कोई स्कूल फार्मेट के प्रत्येक कॉलम में जानकारी अधूरी भरेगा, उसका आवेदन ऑनलाइन स्वीकार नहीं होगा।

आयोजन

खबरें और भी हैं...