• Hindi News
  • National
  • अवैध शराब की बिक्री पर पुलिस थाना नहीं कर रहा था कार्रवाई, ग्राहक बनकर बस स्टैंड पहुंचे डीएसपी ने 2

अवैध शराब की बिक्री पर पुलिस थाना नहीं कर रहा था कार्रवाई, ग्राहक बनकर बस स्टैंड पहुंचे डीएसपी ने 25 का पव्वा 40 रुपए में खरीदा, फिर गिरफ्तार किया

4 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
भास्कर संवाददाता|श्रीगंगानगर

पुरानीआबादीपुलिस की गश्त की सीओ सिटी ने शुक्रवार रात पोल खेलकर रख दी। सीओ ने शिकायत पर बस स्टैंड के सामने एक युवक को देशी शराब को अवैध तरीके से बेचते पकड़ा। उन्होंने मौके पर ही पुरानी आबादी पुलिस को बुलाकर युवक को गिरफ्तार करवाया। बीट अधिकारी और बीट कांस्टेबल को डयूटी के प्रति लापरवाही बरतने के आरोप में कारण बताओ नोटिस दिया जाएगा।

सीओ सिटी तुलसीदास पुरोहित ने बताया कि शुक्रवार रात करीब साढ़े आठ बजे उनके पास सूचना आई कि केंद्रीय बस स्टैंड के सामने एक युवक छुपकर अवैध तरीके से शराब बेच रहा है। इस पर वे सादा वर्दी में अकेले ही मौके पर पहुंच गए। बस स्टैंड के सामने मिनी मायापुरी में बने सुलभ कॉम्पलेक्स के पीछे एक युवक थैले के साथ खड़ा दिखाई दिया। उन्होंने युवक के पास जाकर एक पव्वा शराब मांगी। युवक ने झट से थैले में हाथ मारा और देशी शराब का पव्वा बाहर निकालकर उनके हाथ में थमा दिया। आरोपी ने 25 रुपए के पव्वे के 40 रुपए मांगे।

सीओ पुरोहित ने आरोपी युवक को उसी समय काबू कर वॉकी टॉकी पर मैसेज भेजकर पुरानी आबादी की गश्ती गाड़ी को मौके पर बुलाया। आरोपी युवक हरियाणा के चौटाला गांव का विनोद पुत्र निहालचंद को 95 पव्वे देशी शराब के साथ गिरफ्तार कर लिया गया। युवक ने बताया कि वह मिनी मायापुरी में ही फुटपाथ पर रहता है। पुलिस आरोपी को शनिवार सुबह अदालत में पेश कर रिमांड पर लेगी।

थाने को कई बार दी सूचनाएं, कोई कार्रवाई करने तक को तैयार नहीं था

सीओपुरोहित ने बताया कि वे खुद रोजाना शाम को शहर में गश्त कर आपराधिक घटनाएं राेकने के लगातार प्रयास कर रहे हैं। इसके बावजूद तो बीट अधिकारी अपनी कार्यशैली में सुधार कर रहे हैं और ही बीट कांस्टेबल काम कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि मिनी मायापुरी में कई दिनों से शराब बेची जा रही थी। इस संबंध में उनको सूचना देने वाले मुखबिर ने बताया कि वह पुरानी आबादी पुलिस को इस संबंध में कई बार सूचना दे चुका लेकिन कोई कार्रवाई नहीं हुई। कार्रवाई नहीं करने पर बीट अधिकारी और बीट कांस्टेबल को नोटिस देकर कारण पूछा जाएगा।

भास्कर ख़ास

खबरें और भी हैं...