--Advertisement--

अगले साल सितंबर तक टर्मिनल-1 से भी फ्लाइट्स

News - जयपुरएयरपोर्ट पर लगने वाली कतारें 9 माह बाद कम होने की संभावना है। दरअसल जयपुर एयरपोर्ट प्रशासन अब पुराने...

Dainik Bhaskar

Dec 01, 2017, 04:45 AM IST
अगले साल सितंबर तक टर्मिनल-1 से भी फ्लाइट्स
जयपुरएयरपोर्ट पर लगने वाली कतारें 9 माह बाद कम होने की संभावना है। दरअसल जयपुर एयरपोर्ट प्रशासन अब पुराने एयरपोर्ट टर्मिनल यानी टर्मिनल-1 को भी शुरू करने जा रहा है। पिछले 2 साल से बढ़ रही फ्लाइट्स और यात्रीभार के चलते समस्याएं बढ़ गई थीं। डिपार्चर एरिया हो या अराइवल, हर जगह यात्री कतारों में परेशान हो रहे थे। इसी वजह से टर्मिनल-1 को दुबारा शुरू करने की तैयारी है। एयरपोर्ट प्रशासन ने इसका एस्टीमेट बना लिया है और अगले साल सितंबर तक इसे हर हाल में शुरू कर दिया जाएगा। दरअसल राजस्थान सरकार भी चाहती है कि इसे फिर से शुरू करना चाहती है। इसी वजह से सितंबर 2018 तक इसे शुरू करने का लक्ष्य तय किया गया है। टर्मिनल-1 पर यात्रियों के लिए वही सुविधाएं नए सिरे से मुहैया कराई जाएंगी जो टर्मिनल-2 पर उपलब्ध हैं।

एयरपोर्ट डायरेक्टर जेएस बलहारा ने बताया कि एयरपोर्ट का टर्मिनल-1 दुबारा शुरू होगा। यह तो तय हो चुका है, लेकिन किस एयरलाइन की फ्लाइट यहां से संचालित होंगी यह अभी तय नहीं हो सका है। दरअसल टर्मिनल-1 पर विमानों के पार्किंग वे नहीं होने के चलते एयरलाइंस को विमान टर्मिनल-2 पर ही खड़े करने होंगे। ऐसे में बसों से यात्रियों को टर्मिनल-2 के एप्रिन तक ले जाने का खर्चा बढ़ जाएगा। ऐसे में कोई भी एयरलाइन टर्मिनल-1 से फ्लाइट शुरू करने को आगे नहीं रही है। ऐसे में ज्यादा संभावना यह है कि इंटरनेशनल एयरलाइंस को टर्मिनल-1 पर शिफ्ट किया जाएगा। पार्किंग-वे का समाधान निकालने के लिए भी प्रयास किए जा रहे हैं।

8 नए पार्किंग-वे बनेंगे टर्मिनल-1 के पास

टर्मिनल-1पर फिलहाल कोई पार्किंग-वे नहीं है। वर्तमान में एयरपोर्ट पर 16 विमानों के पार्किंग वे उपलब्ध और एयरपोर्ट प्रशासन की 16 और नए पार्किंग वे बनाने की योजना है। इनमें से 8 पार्किंग-वे टैंगो टैक्सी पर बनेंगे। यह टैंगो टैक्सी मुख्य रनवे से स्टेट हैंगर को जोड़ती है। टैंगो टैक्सी के दोनों तरफ 4-4 पार्किंग वे बनेंगे। इस तरह टर्मिनल-1 के 8 विमान एक साथ हो सकेंगे पार्क। नए पार्किंग वे बनाने में हालांकि एक साल तक का समय लग सकता है। लेकिन एयरपोर्ट प्रशासन यह प्रयास कर रहा है कि टर्मिनल-1 को जल्द से जल्द शुरू किया जाए। जिससे कि करीब 15 लाख यात्रियों को यहां पर एकॉमॉडेट किया जा सके। हालांकि इस बीच टर्मिनल-2 पर दो नए एयरोब्रिज बनाने और अराइवल एरिया में कन्वेयर बैल्ट लगाने का काम भी पूरा कर लिया जाएगा। जिसके बाद उम्मीद की जा रही है, कि आने वाले समय में जयपुर एयरपोर्ट पर यात्रियों की नई सुविधाएं मिल सकेंगी।

इस तरह मिलेगी राहत

{वित्तवर्ष 2016-17 में 38 लाख यात्री थे जयपुर से और इस वित्त वर्ष में संख्या 50 लाख होने का अनुमान।

{टर्मिनल-1 को शुरू कर एकॉमॉडेट किए जाएंगे 15 लाख यात्री। कतारों में कमी आएगी, भीड़ कम होगी।

{टर्मिनल-2 अगले दो साल तक यात्री क्षमता को सह सकेगा। इस बीच टर्मिनल-2 का विस्तार किया जा सकेगा।

X
अगले साल सितंबर तक टर्मिनल-1 से भी फ्लाइट्स
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..