--Advertisement--

बॉलीवुड से लेकर बिजनेस फैमिली खरीद रही हैं इनका मिनिएचर आर्ट

मिनिएचर आर्ट की बारीकियों से सुविज्ञ अपने खास अंदाज में पोर्ट्रेट बनाते हैं।

Dainik Bhaskar

Sep 19, 2015, 05:08 AM IST
आर्टिस्ट सुविज्ञ शर्मा- फाइल फोटो आर्टिस्ट सुविज्ञ शर्मा- फाइल फोटो
जयपुर. जयपुर के आर्टिस्ट सुविज्ञ शर्मा इंटरनेशनल लेवल पर मिनिएचर और पोर्ट्रेट आर्ट को प्रमोट कर रहे हैं। इनके क्लाइंट्स में बॉलीवुड सेलिब्रिटी के साथ देश की टॉप बिजनेस फैमिलीज भी शामिल हैं। अक्टूबर में अपने आर्ट वर्क की मुंबई में लगाएंगे एग्जीबिशन।
मिनिएचर आर्ट की बारीकियों से सुविज्ञ अपने खास अंदाज में पोर्ट्रेट बनाते हैं। हाल ही में उन्होंने एक्ट्रेस रानी मुखर्जी और आदित्य चोपड़ा का प्राइवेट पोर्ट्रेट कलेक्शन तैयार किया है जिसे रानी मुखर्जी ने खास तौर पर अपने रिश्ते के खूबसूरत पलों को सहेजने के लिए तैयार करवाया। अब वे मुंबई में होने वाले आर्ट शो की तैयारी कर रहे हैं। बजाज आर्ट गैलरी में होनी वाली इस एग्जीबिशन की थीम ‘एवर इटरनल पिछवई’ रहेगी। गौरतलब है कि ये पेंटिंग की एक खास शैली है जो कि नाथद्वारा में श्रीनाथ जी के मंदिर में देखी जा सकती है।
एसएमएस और विद्याश्रम स्कूल से पढ़े 32 वर्षीय सुविज्ञ के क्लाइंट्स में बॉलीवुड सेलिब्रिटीज तो हैं ही, देश की टॉप बिजनेस फैमिलीज भी शामिल हैं। टॉप बिजनेस फैमिली में एल.एन. मित्तल, अंबानी, बिड़ला, बरमन्स, सिंघानिया, पीरामल और बजाज बिजनेस फैमिली भी शामिल हैं। बजाज के पूर्वजों के पोर्ट्रेट तैयार किए, वहीं एल.एन. मित्तल कपल पोर्ट्रेट आैर अंबानी फैमिली के पोर्ट्रेट भी वे तैयार कर चुके हैं। साथ ही सिंगापुर आर्ट म्यूजियम को भी रेस्टोर कर चुके हैं। जयपुर के सिटी पैलेस म्यूजियम के कुछ हिस्से, उदयपुर और किशनगढ़ की हवेलियाें, जैन टेंपल, जामा मस्जिद गोल्ड लीफिंग का आर्ट वर्क भी सुविज्ञ ने ही किया है।
क्या खास है पोर्ट्रेट में
सुविज्ञ कहते हैं पोर्ट्रेट को रियलिस्टिक लुक देने के लिए मिनिएचर शैली का प्रयोग करता हूं। इसमें बेस आइवरी एल्श का होता है, जो हाथी दांत का रेप्लिका है। इसे खासतौर से जर्मनी से मंगवाया जाता है। वहीं पोर्ट्रेट को बनाने के लिए परताश का काम किया जाता है। वे कहते हैं आर्टिस्टिक एटीट्यूड तो मेरे डीएनए में ही है। मेरे पिता आर.के. शर्मा खुद एक आर्टिस्ट हैं। मैं नाथद्वारा पेंटर्स की फैमिली से हूं। 7 साल की उम्र से ही पोर्ट्रेट बना रहा हूं। राजस्थान की पेंटिंग्स ने हमेशा मुझे अट्रेक्ट किया। सिटी पैलेस और आमेर फोर्ट की फ्रेस्को पेंटिंग्स ने मुझे कला को समझने का एक बड़ा कैनवास दिया। मेरे लिए पेंटिंग मेडिटेशन है जो मेरे माइंड, बॉडी और सोल को एनर्जी देता है।
जिंदा रखना है मिनिएचर आर्ट
इंडियन हैरिटेज का एक खूबसूरत अंदाज मिनिएचर आर्ट में छिपा है, लेकिन धीरे-धीरे इसकी ट्रेडिशनल वैल्यू कम होती जा रही है। कंटेम्परेरी आर्ट इसकी जगह ले रहा है। ऐसे में मैं अपने काम के जरिए मिनिएचर आर्ट को जिंदा रखने की कोशिश करता हूं। इसके तहत माइथोलॉजिकल कहानियों की पूरी सीरीज को कैनवास पर उतार चुका हूं। कला के पुराने पैटर्न को फॉलो करते हुए मैं वेजिटेबल डा इज का इस्तेमाल करता हूं। वहीं एमरल्ड, रूबी और डायमंड जैसे नेचुरल स्टोन का इस्तेमाल करता हूं।
यहां कर चुके हैं डिसप्ले
>वन मैन शो एट बजाज आर्ट गैलरी, मुंबई 2001 से 2008
>सिमरोजा आर्ट गैलरी मुंबई 2006 से 2007 मुंबई चित्रकूट आर्ट गैलरी कोलकाता 2005 से 2009
>एकेडमी अॉफ फाइन आर्ट कोलकाता 2005
>चेन्नई और दिल्ली में ग्रुप एग्जीबिशन 2003 से 2007
>सिमरोजा आर्ट गैलरी में 2014
आगे की स्लाइड में देखें आर्टिस्ट सुविज्ञ शर्मा के आर्ट्स....
Miniechture art in jaipur
Miniechture art in jaipur
X
आर्टिस्ट सुविज्ञ शर्मा- फाइल फोटोआर्टिस्ट सुविज्ञ शर्मा- फाइल फोटो
Miniechture art in jaipur
Miniechture art in jaipur
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..