पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Shreechand Makhija Story By Ish Madhu Talwar

फिल्म की शूटिंग में पहुंच गए थे असली डाकू, एक्ट्रेस बिंदु को रात में था नचाया

3 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
जयपुर.   शहर के जौहररी बाजार में खेलकर बड़े हुए श्रीचंद माखीजा बचपन के उन दिनों को आज भी नहीं भूलते जब उन्होंने अपने स्कूल में नाटक किए। सिंधी पंचायत स्कूल में जब वे छठी क्लास में पढ़ते थे, तब उन्होंने 'भक्त प्रह्लाद' और 'अंधेर नगरी चौपट राजा' नाटकों में अभिनय कर बेस्ट एक्टर का अवार्ड जीता। वे कहते हैं-'बस तभी से अभिनय का कीड़ा लग गया।' इसी का नतीजा है कि कोई आधी शताब्दी से ज्यादा समय से सक्रिय श्रीचंद माखीजा अब तक नाटकों के लगभग तीन हजार शो कर चुके हैं, 65 से ज्यादा टीवी सीरियल्स में काम कर चुके हैं और लगभग 25 फिल्मों में अपने अभिनय का लोहा मनवा चुके हैं।  बताया- जब 'डाकू' में आ गए असली डाकू...
 
 
- श्रीचंद माखीजा की पहली फिल्म थी बासु भट्‌टाचार्य की 'डाकू' (1975)। इसकी शूटिंग से एक दिलचस्प किस्सा जुड़ा है। मुरैना के पास जब बिंदु के साथ रात को एक गाना शूट किया जा रहा था तो सचमुच के डाकू आ गए। 
- वे अपना खाना-पीना भी साथ लेकर आए थे। तब डाकुओं की फरमाइश पर बिंदु को रात में कई बार नाचना पड़ा। रात बिना शूटिंग के ही बीत गई। कबीर बेदी इसमें मुख्य भूमिका में थे और माखीजा डाकू गिरोह के सदस्य बने थे। अगली सुबह जल्दी ही सारा सामान समेट कर फिल्म यूनिट वहां से लौट आई। यह फिल्म सिनेमाघरों में टिक नहीं पाई और बुरी तरह फ्लॉप हो गई।
 
 टीवी सीरियल 'नुक्कड़' से  मिली असली पहचान 
- 20 मार्च, 1940 को जन्मे श्रीचंद माखीजा का परिवार विभाजन से एक साल पहले 1946 में ही पाकिस्तान के शिकारपुर (सिंध) से जयपुर आकर बस गया था। जयपुर में सिंध पंचायत स्कूल और पोद्दार स्कूल में पढ़ाई के बाद उन्होंने कॉमर्स कॉलेज से स्नातक किया। कॉलेज में भी नाटकों का सिलसिला चलता रहा जो एजी ऑफिस में नौकरी लग जाने के बाद भी जारी रहा। मोहन महर्षि, एचपी सक्सेना जैसे निर्देशकों के साथ उन्होंने कई नाटक किए। - श्रीचंद माखीजा का जब 1976 में मुंबई तबादला हुआ तो जैसे उन्हें सही मंजिल मिल गई और अभिनय का पूरा समुद्र उनके सामने खुल गया। दिनेश ठाकुर की संस्था 'अंक' के साथ जुड़कर उन्होंने बेशुमार नाटक किए, जिनकी फेहरिस्त बहुत लंबी है। उन्होंने लगभग 65 नाटक हिंदी में, 45 सिंधी में, 10 राजस्थानी में, 5 अंग्रेजी में, 2 मराठी में और 2 संस्कृत में किए। इनमें एक-एक नाटक के कई शो हुए। 'हाय मेरा दिल' के ही 1131 शओ हो चुके हैं, जिसमें ये शुरू से जुड़े हुए हैं।
- श्रीचंद माखीजा को असली पहचान मिली टीवी सीरियल 'नुक्कड़' से। कुंदन लाल शाह के इस सीरियल के पहले सत्र के सभी 40 एपिसोड में माखीजा ने चौरसिया पान वाले का रोल किया, जिसमें वे बिहारी भाषा में रोचक संवाद बोलते हैं। उस दौर में वे मुंबई की गलियों में निकल जाते तो लोग उन्हें 'चौरसिया पान वाला' कहकर आवाज लगाते थे। इस सीरियल से वे घर-घर में पहुंच गए।
 
दिग्गज डायरेक्टर के साथ किया काम
-  इसके अलावा उन्होंने 'इंतजार', 'तमस', 'भारत एक खोज', 'मुजरिम हाजिर', 'हम पांच', 'सीआईडी' जैसे अनेक लोकप्रिय टीवी सीरियल्स में काम किया। 'नुक्कड़' के बाद 'नया नुक्कड़' के नाम से दूसरे सत्र के सीरियल में भी उन्होंने काम किया। श्रीचंद माखीजा ने जिन फिल्मों में यादगार भूमिका की, उनमें अनिल कपूर के साथ 'ईश्वर' (1989), राजकुमार संतोषी की 'चाइना गेट' (1998), सुभाष घई की 'ताल' (1999), गुलजार की 'हू तू तू' (1999), रामगोपाल वर्मा की 'कंपनी' (2002) और सूरज बड़जात्या की सलमान खान स्टारर 'मैंने प्यार किया' जैसी फिल्में शामिल हैं।
- खास बात यह कि श्रीचंद माखीजा 77 वर्ष की उम्र में भी पूरी तरह सक्रिय हैं। हाल ही में जयपुर में इप्टा के नाट्य उत्सव में उन्होंने 'हाय मेरा दिल' में अभिनय से दर्शकों का खुलकर दिल जीता। जल्दी ही स्टार टीवी के एक सीरियल 'इश्क गुनाह' में वे दिखाई देंगे। इसमें उन्होंने एक ऐसे बुजुर्ग मुखिया की भूमिका निभाई है जिसकी सब बात मानते हैं और स्नेह करते हैं। अभिनय के प्रति उनका प्रेम अद्भुत है। पिछली मुलाकात में उन्होंने मुझसे कहा था-'अभिनय में मुझे स्वर्गिक आनंद मिलता है।' 
- श्रीचंद ने ऋषिकेश मुखर्जी, श्याम बेनेगल, गोविन्द निहलानी, प्रकाश झा, महेश भट्‌ट, गुलजार, जगमोहन मूंदड़ा, सूरज बड़जात्या, सुभाष घई, राम गोपाल वर्मा, राजकुमार संतोषी, रमेश सिप्पी, बासु भट्‌टाचार्य जैसे पहली पंक्ति के निर्देशकों के साथ फिल्मों में काम किया।
 
ऐसे हुई 'नुक्कड़' की तैयारी
-  चर्चित टीवी सीरियल 'नुक्कड़' में चौरसिया पान वाला बनने से पहले श्रीचंद माखीजा ने काफी तैयारी की थी। सीरियल के निर्देशक कुंदन लाल शाह ने उनसे कहा था-'आप तो सिंधी हैं। इसमें आपको बिहारी में संवाद बोलने पड़ेंगे। आप बोल लेंगे?' उन्होंने कहा-'हां, बोल लूंगा।'
- इसके बाद माखीजा जुहू में एक पान की दुकान पर जाते और पान वाले की बातचीत को ध्यान से सुनते। कई दिनों तक यह सिलसिला चला। इसके बाद संवाद अदायगी से उन्होंने दर्शकों का दिल जीत लिया।
- सीरियल के एक दृश्य में बताया जाता है कि अमिताभ बच्चन के 'खाइके पान बनारस वाला' गीत चर्चित होने के बाद चौरसिया पान वाला अपनी दुकान से राजेश खन्ना की तस्वीर हटाकर अमिताभ बच्चन की लगा देता है। इससे मोहल्ले का खोपड़चंद नाराज होता है। तब माखीजा का ये संवाद काफी चर्चित हुआ था-'ई ले खोपड़चंद, हम तुम्हार राजेश खन्ना पर चूना लगाय दिए हैं और अफने अमिताभ की फोटो इहां अपनी दुकनिया पर लगाय दिए हैं। कर ले का करत है तू।' दरअसल, यह राजेश खन्ना की विदाई और अमिताभ बच्चन की एंट्री का दौर था। 
 

आज का राशिफल

मेष
मेष|Aries

पॉजिटिव- धार्मिक संस्थाओं में सेवा संबंधी कार्यों में आपका महत्वपूर्ण योगदान रहेगा। कहीं से मन मुताबिक पेमेंट आने से राहत महसूस होगी। सामाजिक दायरा बढ़ेगा और कई प्रकार की गतिविधियों में आज व्यस्तता बनी...

और पढ़ें