• Hindi News
  • Village Women Startup Became Crores Of Net Worth

गांव की 3 महिलाओं ने सिर्फ ढाई साल में खड़ी की डेढ़ करोड़ की कंपनी

6 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
धौलपुर. राजस्थान के धौलपुर जिले की 3 महिलाओं ने महज ढ़ाई साल में डेढ़ करोड़ की कंपनी खड़ी कर दी। कम पढ़ी-लिखी होने के बावजूद तीनों महिलाएं गांव की 800 महिलाओं को रोजगार दे रहीं हैं । उनकी इस पहल से कई महिलाएं आत्मनिर्भर बन चुकी हैं। जानिए कैसे खड़ी की कंपनी...
- ये कंपनी खड़ी की है धौलपुर जिले की रहने वाली अनीता, हरिप्यारी व विजय शर्मा ने।
- तीनों ही आर्थिक रूप से कमजोर फैमिली से हैं।
- वे तीनों दूधियों (दूध खरीदने वाले) से रूपए उधार लेकर भैंस खरीदती थी व दूधियों को दूध बेचकर उधारी चुकाती थी।
- लेकिन दूधिया इनके दूध को बाजार भाव से काफी कम कीमत पर खरीदते थे। इसलिए इन्होंने खुद की कंपनी बनाने की ठान ली।
- रुपए की जरूरत के लिए इन्होंने प्रदान संस्था की सहायता से महिलाओं का स्वयं सहायता समूह बनाया और लोन लिया।
- जिससे एक अक्टूबर 2013 को एक लाख की लागत से अपनी सहेली प्रोड्यूसर नाम की उत्पादक कंपनी बना ली।
- मंजली फाउण्डेशन के निदेशक संजय शर्मा की तकनीकी सहायता से करीमपुर गांव में दूध का प्लांट लगाया।
- कंपनी के शेयर ग्रामीण महिलाओं को बेचना शुरू किया।
- वर्तमान में कंपनी की 800 ग्रामीण महिलाएं शेयरधारक हैं व महज ढ़ाई वर्ष में कंपनी डेढ़ करोड़ की हो गई है।
- शेयरधारक महिलाएं कंपनी को दूध भी देती हैं। कंपनी के बोर्ड में फिलहाल कुल 11 महिलाएं हैं। जिनकी 12 हजार रुपए प्रतिमाह आय है।
ऐसे काम करती है सहेली कंपनी
- करीब 18 गांव में कंपनी की शेयरधारक महिलाएं हैं।
- प्रत्येक गांव में महिला के घर पर दूध का कलेक्शन सेन्टर बना रखा है। जहां महिलाएं खुद दूध दे जाती हैं।
- गांवों को 3 क्षेत्रों में विभाजित कर अलग-अलग गाडियां लगा रही हैं। जो कि दूध को करीमपुर में लगे प्लांट तक पहुंचाती हैं।
- प्लांट पर 20 हजार रूपए प्रतिमाह के वेतन पर उच्च शिक्षित ब्रजराज सिंह को मुख्य कार्यकारी अधिकारी नियुक्त कर रखा है।
मिलता है महिलाओं को फायदा

- गांव में दूधियां 20-22 रूपए प्रति लीटर में महिलाओं से दूध खरीदते थे। जबकि कंपनी 30-32 रूपए लीटर में खरीदती है।
- जिससे दूध देने वाली हर महिला को अच्छी आय हो जाती है।
- इसके अलावा शेयर के अनुपात में कंपनी के शुद्ध लाभ में से भी हिस्सा मिलता है।
आगे की स्लाइड में पढ़िए दूध के अलावा और क्या बेचती है कंपनी...