पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • आश्वासनों की दवा से बढ़ा हड़ताल का मर्ज

आश्वासनों की दवा से बढ़ा हड़ताल का मर्ज

7 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
मारपीट-दुर्व्यवहार को लेकर ही रेजिडेंट्स ने 19 बार की हड़ताल, हर बार सुरक्षा का िसर्फ आश्वासन

कोटामें रेजीडेंट से मारपीट के विरोध में जयपुर मेडिकल कॉलेज सहित जोधपुर, कोटा, उदयपुर, बीकानेर और अजमेर मेडिकल कॉलेज के रेजीडेंट गुरुवार को हड़ताल पर रहे। गुरुवार को अवकाश के कारण अस्पतालों में महज दो घंटे की ओपीडी में सीनियर डॉक्टर उतने भी मरीज नहीं देख पाए जितने सामान्य दिनों के दो घंटे में देख पाते थे। कारण- रेजीडेंट नहीं थे। ओपीडी से मरीजों को बिना उपचार के लौटना पड़ा। कई अस्पतालों की इमरजेंसी पहुंचे लेकिन हालात यहां भी विकट थे। सीनियर्स इमरजेंसी के घायलों को देखने में लगे थे। कई मरीज जयपुर से बाहर से आए थे, वे रुकने के बंदोबस्त में लग गए। राहत की बात यह रही कि एसएमएस अस्पताल में गंभीर घायलों को तुंरत उपचार मिला तो जेके लोन अस्पताल में नवजात को तुरंत देखा गया। हड़ताल की वजह फिर मारपीट-दुर्व्यवहार बना, जो पिछली 18 हड़ताल की वजह रहा। सरकार की ओर से अस्पतालों के लिए टास्क फोर्स गठित करने का आश्वासन आज तक पूरा नहीं हुआ।

हड़ताल कहां िकतनी बार

1

जोधपुर मेडिकलकॉलेज एवं इससे जुड़े अस्पतालों के रेजिडेंट डॉक्टर्स हड़ताल में पहले नंबर है। वर्ष 2011 से 2014 में अब तक सिर्फ एक कारण (मारपीट-दुर्व्यवहार) को लेकर रेजिडेंट्स 19 बार हड़ताल पर गए हैं।

बड़ा सवाल : क्या हड़ताल से ही मिलता है न्याय?

चौथे नंबर पर बीकानेर,पांचवेनंबर पर अजमेरएवंछठवें नंबर पर उदयपुरमेडिकलकॉलेज हैं।

3

2

सरकार बताए, घटनाएं रोकने के क्या प्रयास किए : जार्ड अध्यक्ष

जार्डअध्यक्ष डॉ. रावेन्द्र सिंह ने कहा कि अस्पतालों में लगातार मारपीट की घटनाएं बढ ही रही हैं। सरकार ने जो वादे किए थे, धरातलीय स्तर पर उन पर कोई काम नहीं हुआ। यदि कुछ किया गया है तो सरकार यह बताए। ना ही सुरक्षाकर्मी बढाए हैं, ना ही कैमरे लगे हैं। सिक्यूरिटी में बुजुर्ग लगे हैं, उन्हें आज तक नहीं हटाया गया। अल्टीमेटम के बाद भी प्रशासन दोषियों को नहीं पकड़ पाया। ऐसे में हम काम कैसे कर सकते हैं। हर बार सरकार वादे करती है और हम मान जाते हैं, लेकिन हर बार ऐसा नहीं होगा।

आजहोगा फैसला

मेडिकलकॉलेज के प्रतिनिधि शुक्रवार को जयपुर जार्ड अध्यक्ष डॉ. राजवेन्द्र के साथ बैठक करेंगे। सरकार स्तर पर वार्ता की जाएगी।

2 मुख्य मुददे - हॉस्पिटल प्रोटक