पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • धन धन सो जननी जिनि गुरु जपिया...

धन-धन सो जननी जिनि गुरु जपिया...

7 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
सिखधर्म के पहले गुरु गुरुनानक देव का आगमन पर्व गुरुवार को मनाया गया। गुरुद्वारों में कीर्तन दीवान सजे और रागी-जत्थों प्रचारकों ने शबद गान, गुरुवाणी से संगत को निहाल किया। बड़ी संख्या में संगत ने मत्था टेका अरदास की।

गुरुद्वारा गुरुसिंह सभा राजापार्क के तत्वावधान में मुख्य कार्यक्रम गुरुद्वारा राजापार्क में हुआ। शुरुआत सुबह नितनेम पाठ से हुई। सुबह अमृतसर के विशेष कीर्तनी जत्थे भाई लखविंदर सिंह ने आसादीवार का कीर्तन किया। इसके बाद अमृतसर के भाई लखविंदर सिंह सा धरती पई हरियावली जित्थे मेरा सतगुरु बैठा आय... और धन-धन सो जननी जिनि गुरु जपिया... शबद गान कर संगत को जोड़ना शुरू किया। देहरादून से भाई कुलदीपसिंह सतगुरु नानक प्रगटिया मिटि धुंध जग चानन होया...शबद गान से संगत को निहाल किया। मोहाली, चंडीगढ़ के भाई निर्मल प्रीत सिंह, हजूरी रागी जत्था गुरुद्वारा राजापार्क भाई मस्तान सिंह ‘शांत’, ने भी शबद गान किया। अमृतसर के प्रचारक ज्ञानी जसविंदर सिंह शहूर ने गुरुनानक देव के जीवन पर प्रकाश डाला। गुरुद्वारा प्रधान सरदार केसरसिंह ने रागी-जत्थे प्रचारकों को सिरोपा भेंट किया। संयुक्त सचिव गुरमीत सिंह ने आभार जताया। प्रदेशाध्यक्ष अशोक परनामी ने मुख्यमंत्री का संदेश पढ़कर सुनाया। कार्यक्रम में सांसद रामचरण बोहरा, उच्च शिक्षा मंत्री कालीचरण सराफ, समाज अध्यक्ष अजयपाल सिंह शामिल हुए।

शिविरों में 143 यूनिट रक्तदान

एमआईरोड पर अमरापुर आश्रम में गुरुनानकदेव के आगमन पर्व और कार्तिक पूर्णमासी पर गुरुवार को अमरापुर नवयुवक मंडल एवं स्वास्थ्य कल्याण ब्लड बैंक के संयुक्त तत्वावधान में रक्तदान शिविर लगाया गया। इसमें पुरुषों के साथ महिलाओं ने भी उत्साह से भाग लिया और करीब 72 यूनिट रक्तदान किया। इसी तरह वैशाली नगर गुरुद्वारा में गुरुद्वारा प्रबंधन कमेटी के सहयोग से राजस्थान विश्वविद्यालय के विद्यार्थियों ने रक्तदान कर 71 यूनिट रक्त एकत्र किया। शिविर संयोजक सुखदीप सिंह ने बताया कि शिविर में एकत्र रक्त महावीर कैंसर अस्पताल के पीड़ितों की सहायतार्थ भिजवाया गया।

हीदा की मोरी गुरुद्वारा

गुरुद्वाराहीदा की मोरी में भी गुरुनानक देव का प्रकाश पर्व मनाया गया। अमृतवेले में पंजवाणी नितनेम का पाठ हुआ। सुबह आसादीवार का दीवान सजा। अखंड पाठ साहब भोग के साथ ही शबद कीर्तन का विशेष दीवान सजाया गया। इसमें अम