पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Additional Chief Controller Of Examinations At Procter And Nokjonk

एडिशनल चीफ प्रोक्टर और परीक्षा नियंत्रक में नोकझोंक

9 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
जयपुर.राजस्थान यूनिवर्सिटी की ऑनर्स परीक्षा के टाइम-टेबल को लेकर एडिशनल चीफ प्रोक्टर और परीक्षा नियंत्रक के बीच मंगलवार को नोकझोंक हो गई। बाद में कुलसचिव ने मामला शांत कराया और छात्र-छात्राओं को आश्वासन दिया कि टाइम-टेबल में बदलाव पर गंभीरता से विचार किया जाएगा।
गौरतलब है कि स्टूडेंट्स चाहते हैं कि हर साल की तरह इस बार भी ऑनर्स की परीक्षाएं 13 मार्च की जगह अप्रैल में शुरू हों। इस मांग को लेकर महारानी कॉलेज और राजस्थान कॉलेज के छात्र-छात्राओं का प्रतिनिधिमंडल कार्यवाहक कुलपति मधुकर गुप्ता से मिलने पहुंचा तो उन्होंने एडिशनल चीफ प्रोक्टर डॉ.एचएस पलसानिया को स्टूडेंट्स के साथ वार्ता करने और परीक्षा नियंत्रक डॉ पीएल रैगर से मिलाने के निर्देश दिए।
डॉ पलसानिया ने छात्र-छात्राओं की बात का समर्थन करते हुए कहा कि इस टाइम-टेबल के अनुसार परीक्षाएं हुई तो कई ऑनर्स स्टूडेंट्स फेल हो जाएंगे। इस पर डॉ रैगर ने डॉ पलसानिया से सवाल किया कि आप परीक्षा कार्यो में कैसे दखल दे रहे हैं। इसके जवाब में डॉ.पलसानिया बोले कियूनिवर्सिटी ने उनको स्टूडेंट्स का एडिशनल प्रोक्टर बनाया है और वे एक टीचर और गार्जियन के रूप में बात कर रहे हैं।
इस नोकझोंक के बाद डॉ रैगर स्टूडेंट्स और डॉ. पलसानिया को कुलसचिव निष्काम दिवाकर से वार्ता कराने लेकर गए, लेकिन वहां भी नोकझोंक चलती रही तो कुलसचिव ने उनको शांत कराया। इससे पहले यूनिवर्सिटी में छात्रनेता अरुण कटारिया और मुकेश गोदारा के नेतृत्व में प्रदर्शन के दौरान स्टूडेंट्स ने ऑनर्स का टाइम-टेबल बदलने की मांग की।
कुलपति की सहमति से गया था
'स्टूडेंट्स का प्रतिनिधिमंडल कुलपति सचिवालय पहुंचा था। उसके बाद मैं कार्यवाहक कुलपति की इजाजत लेकर स्टूडेंट्स को परीक्षा नियंत्रक के पास ले गया। एक शिक्षक के नाते मैंने अपनी बात परीक्षा नियंत्रक और कुलसचिव के सामने रखी। आगे फैसला इन्हें ही लेना है।'
डॉ.एचएस पलसानिया, एडिशनल चीफ प्रोक्टर