पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • After 23 Years 47 New Panchayat Committees In Rajasthan

23 साल बाद 47 नई पंचायत समितियां, 723 नई ग्राम पंचायतें भी गठित

7 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
जयपुर. लंबी जद्दोजहद के बाद ग्राम पंचायतों व पंचायत समितियों के पुनर्गठन की अधिसूचना जारी कर दी गई है। प्रदेश में 723 नई ग्राम पंचायतें और 47 नई पंचायत समितियां बन गई हैं। नई पंचायत व पंचायत समितियां जनवरी में होने जा रहे चुनावों के बाद अपने अस्तित्व में आ जाएंगी। असल में 1991-92 में 1981 की जनगणना के आधार पर ही पंचायतों का पुनर्गठन किया गया था। उसके बाद अब लगभग 23 साल बाद वसुंधरा सरकार ने 2011 की जनगणना के आधार पर नए सिरे से पुनर्गठन का बीड़ा उठाया। प्रशासनिक व भौगोलिक दृष्टि से इस लंबे समय में काफी बदलाव को देखते हुए यह काम काफी समय से पेंडिंग चल रहा था।

वसुंधरा सरकार ने 2 मार्च को मंत्री गुलाबचंद कटारिया की अध्यक्षता में कैबिनेट सब कमेटी गठित कर पुनर्गठन के मापदंड तय किए। इसके बाद पंचायती राज विभाग ने 20 जुलाई को सभी कलेक्टरों को गाइडलाइन भेजकर प्रस्ताव मांगे। अब तक चली कवायद के बीच बुधवार देर रात मुख्यमंत्री ने अधिसूचना जारी करने की मंजूरी दे दी।

जिलेवार नई ग्राम पंचायतें
अजमेर में 6, अलवर में 42, बांसवाड़ा में 39, बारां में 7, बाड़मेर में 109, भरतपुर में 4, भीलवाड़ा 1, बीकानेर 71, बूंदी 2, चित्तौड़गढ़ 2, चूरू 5, दौसा में 9, धौलपुर 18, डूंगरपुर 54, गंगानगर 16, जयपुर 42, जैसलमेर में 12, जालौर में 10, झुंझुनूं में 13, जोधपुर 128, करौली 4, नागौर में 8, पाली में 1, प्रतापगढ़ 13, राजसमंद 2, सवाई माधोपुर 3, सीकर 14, सिरोही 11 व उदयपुर 77 नई ग्राम पंचायतें बनाई गई हैं। टोंक, कोटा, झालावाड़, हनुमानगढ़ में एक भी नई ग्राम पंचायत नहीं बनाई गई है।
यह हुई नई स्थिति
- नई पंचायत समितियां - 47
- अब तक पंचायत समितियां थीं - 249
- नई ग्राम पंचायतें बनीं- 723
- अब तक ग्राम पंचायतें थीं- 9177
- सबसे ज्यादा पंचायत समितियां बनीं- बाड़मेर में 9 पंचायत समितियां
- 14 जिलों में एक भी पंचायत समिति नई नहीं बनाई
शेष 19 जिलों में सबसे कम 11 जिलों में केवल 1-1 पंचायत समितियां बनाई गई हैं। दो जिलों में 2-2, दो जिलों में 3-3, एक जिले में 5, दो जिलों में 6-6 अौर एक जिले में 9 पंचायत समितियां बनाई गई हैं।
सबसे ज्यादा ग्राम पंचायतें जोधपुर में 128, सबसे कम भीलवाड़ा व पाली में केवल 1-1 नई ग्राम पंचायत बनाई गई हैं। हनुमानगढ़, झालावाड़, कोटा व टोंक में एक भी नई ग्राम पंचायत नहीं बनाई गई।
पावटा व जालसू अब पंचायत समिति
अजमेर में सरवाड को, बांसवाड़ा में गांगडतलाई, अरथूना व तलवाड़ा, बाड़मेर में रामसर, गिडा, पाटोदी, कल्याणपुर, धनाऊ, सेढ़वा, समदडी, गुढ़ामलानी व गडरारोड, भरतपुर में पहाड़ी, भीलवाड़ा में बिजौलिया, बीकानेर में पांचू, चूरू में बीदासर, दौसा में लवाण, धौलपुर में सैंपऊ, डूंगरपुर में साबला, गलियाकोट, चिखली, जोथली व दोवड़ा को, गंगानगर में श्रीविजयनगर, जयपुर में पावटा व जालसू, झालावाड़ में भवानी मंडी व अकलेरा, जोधपुर में सेखाला, देचु, तिवरी, बापिणी, लोहावट व पीपाड़ शहर को, करौली में मंडरायल, नागौर में मौलासर, नावां व खींवसर, सवाई माधोपुर में चौथ का बरवाड़ा, सीकर में पाटन तथा उदयपुर में ऋषभदेव, सायरा, फलासिया, झल्लारा, सेमारी व कुराबड़ को पंचायत समिति बनाया गया है। अलवर, बारां, बूंदी, चित्तोड़गढ़, जैसलमेर, जालौर, हनुमानगढ़, झुंझुनूं, कोटा, प्रतापगढ़, राजसमंद, सिरोही व टोंक में एक भी नई पंचायत समिति नहीं बनाई गई है।