• Hindi News
  • National
  • रेल बजट में टोंक को मिली रेल लाइन, अजमेर उदयपुर का विद्युतीकरण

रेल बजट में टोंक को मिली रेल लाइन, अजमेर-उदयपुर का विद्युतीकरण

7 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
जयपुर. इस बार रेल बजट में बड़ी घोषणाएं भले ही नहीं हुई हों, लेकिन कुछ मायनों में यह राज्य के लिए अच्छा साबित हुआ है। टोंक को रेल लाइन से जोड़ने की वर्षों पुरानी मांग इस बार साकार हो गई। रेल मंत्री ने अपने बजट में इस 165 कि.मी. लंबी रेल लाइन की घोषणा की। इस पर 873 करोड़ रुपए की लागत आएगी।
इसके साथ ही हिसार-भटिंडा-सूरतगढ़-भिलड़ी (फलौदी-जैसलमेर सहित) भिवानी-रोहतक एवं अजमेर-उदयपुर रेल लाइन का विद्युतीकरण होगा। इससे पहले वाले बजट में रेवाड़ी-जयपुर पालनपुर एवं रेवाड़ी-हिसार लाइन के विद्युतीकरण की घोषणा हुई थी। इसमें अलवर से बांदीकुई के बीच काम बाकी है। विद्युतीकरण का काम पूरा होने के बाद राजस्थान के अधिकांश शहर विद्युतीकरण लाइन से जुड़ जाएंगे।
प्रदेश में 19 रोड ओवरब्रिज और 30 रोड अंडर ब्रिज 800 करोड़ रुपए की लागत से बनाए जाएंगे।टोंक के रेल लाइन से जुड़ने के बाद प्रदेश में केवल चार जिले ही रेल मार्ग से वंचित रहेंगे। इनमें करौली, प्रतापगढ़, बांसवाड़ा, सिरोही हैं। रेलयात्री को बढ़ते यात्रीभार को देखते हुए दक्षिण व पूर्वी इलाकों के लिए नई ट्रेनें मिलने की लोगों को आस थी, साथ ही नजदीकी शहरों के लिए डेमू चलाने, ट्रेनों को ठहराव बढ़ाने और कई ट्रेनों के विस्तार की भी उम्मीद थी। जयपुर से कटरा, मुंबई, दिल्ली और हरिद्वार के लिए ट्रेनें मिलने की उम्मीद थी। इस दिशा में निराशा हाथ लगी।
आगे की स्लाइड्स में पढ़ें पिछले बजट से कितने अधिक मिले