• Hindi News
  • Plan Was Land With Risk Jaipur Rajasthan

एटीसी ने लैंडिंग से मना कर दिया था, पायलट ने रिस्क लेकर उतारा विमान

8 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक

जयपुर. एयर इंडिया के गुवाहाटी वाले विमान को जयपुर एयरपोर्ट पर इमरजेंसी लैंडिंग की एटीसी से स्वीकृति नहीं थी। घने कोहरे के कारण जीरो विजिबिलिटी में लैंडिंग खतरनाक थी। जयपुर एयरपोर्ट पर उपकरण भी कैट-1 श्रेणी के ही थे। इसके बावजूद पायलट ने अपनी रिस्क पर विमान उतारा। गनीमत रही कि लैंडिंग के दौरान विमान क्रैश नहीं हुआ, क्योंकि लैंडिंग प्रॉपर नहीं हुई और विमान रन-वे से बायीं ओर बनी मजार के आसपास पेड़ों से टकराया। मजार से कुछ दूर दीवार थी, पीछे 8 फीट गहरा नाला है। दिल्ली से आई डीजीसीए की टीम की जांच में ये बातें सामने आई हैं, जिनकी पड़ताल होगी।

सवालों की जांच शुरू?
डीजीसीए की टीम को एयरपोर्ट प्रशासन की ओर से घटनास्थल की फोटोग्राफी, वीडियो आदि उपलब्ध कराए गए हैं। इसके अलावा लैंडिंग के दौरान एटीसी और पायलट की जो बातचीत हुई, उसकी रिकॉर्डिंग भी डीजीसीए ने अपने कब्जे में कर ली है। बताया जा रहा है कि जांच होने तक संबंधित प्लेन और पायलट (ऑफ रोस्टर) दोनों उड़ान नहीं कर सकेंगे।

एयरपोर्ट डायरेक्टर ने कहा- विमान का बचना चमत्कार
जैसी घटना हुई, उसके बारे में क्या कहेंगे?
यह किसी मिरेकल से कम नहीं कि बड़ा हादसा टल गया। मैंने इस तरह की घटना नहीं देखी, लेकिन शुक्र है लोगों की जान बच गई।

आगे की स्लाइड्स में जानें पूरी खबर...

फोटो- जयपुर एयरपोर्ट के डायरेक्टर एसएन बोरकर