पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

रेल बजट: राजस्थान को मिली 20 नई ट्रेनें, भीलवाड़ा में लगेगी कोच निर्माण फैक्ट्री

9 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
जयपुर.रेल बजट में राजस्थान को कई सौगातें मिली हैं। 15 नई एक्सप्रेस और 5 पैसेंजर ट्रेनें चलेंगी। जयपुर को एग्जीक्यूटिव लॉन्ज व रेल नीर प्लांट मिला है। भीलवाड़ा में मेन लाइन इलेक्ट्रिकल मल्टीपल यूनिट (मेमू) के निर्माण के लिए फैक्ट्री लगेगी। इस पर एक हजार करोड़ रु. खर्च होंगे। यह योजना 802 बीघा जमीन पर विकसित की जाएगी।
दिल्ली-अहमदाबाद वाया जयपुर मार्ग विद्युतीकृत
दिल्ली से अहमदाबाद वाया जयपुर रेलमार्ग को विद्युतीकृत किया जाएगा। इसके तहत अलवर-बांदीकुई-जयपुर-फुलेरा तथा सराय रोहिल्ला-रेवाड़ी-रींगस-फुलेरा-पालनपुर-अहमदाबाद मार्ग आएंगे।
12 ट्रेनों का विस्तार, तीन के फेरे बढ़ाए
रेल बजट में प्रदेश में 12 ट्रेनों का विस्तार किया गया है, जबकि आगरा फोर्ट-अहमदाबाद, गोरखपुर-अहमदाबाद व चंडीगढ़-कोच्ची वेली एक्सप्रेस सहित तीन ट्रेनों के फेरे बढ़ाए गए हैं।
बीकानेर में वर्कशॉप का आधुनिकीकरण होगा
युवाओं को रेल संबंधी जानकारी के लिए राष्ट्रीय कौशल विकास कार्यक्रम के तहत अलवर व सिरसा में प्रशिक्षण केंद्र खोले जाएंगे। बीकानेर में वर्कशॉप का आधुनिकीकरण होगा। अभी यहां छोटी लाइनों के वैगनों की ओवर हॉलिंग का काम होता है। आधुनिकीकरण के बाद बड़ी लाइन के वैगनों की ओवर हॉलिंग शुरू हो जाएगी।
इस वित्त वर्ष में पूरे होंगे ये काम
आमान परिवर्तन
>हनुमानगढ़-श्रीगंगानगर
>लुहारू-सीकर रेललाइन।
>बनास-सिरोही रेल लाइन के दोहरीकरण का कार्य।
.. और वित्त वर्ष 2013-14 में ये
नई लाइन
>दौसा-डिडवाना
>बांगड़ग्राम-रास।
दोहरीकरण
>बासनी-भगत की कोठी,
>कोठार-नाना-केशवगंज
>लूनी-बाईपास सहित लूनी-हनवंत
>सालावास-बासनी।
अलवर-बांदीकुई रेलमार्ग का दोहरीकरण होगा
रेल बजट में अलवर-बांदीकुई मार्ग के दोहरीकरण की घोषणा की गई है। दिल्ली से अलवर तथा बांदीकुई से जयपुर तक के मार्ग का पहले ही दोहरीकरण हो चुका है। अलवर-बांदीकुई मार्ग का दोहरीकरण होते ही जयपुर से दिल्ली के बीच ट्रेनों का आवागमन समय पर और तेज होगा।
ये घोषणा भी हुई
>मावली-बड़ी सादड़ी का आमान परिवर्तन।
>सामाजिक व आर्थिक आधार पर प्रस्तावित नई लाइन : अजमेर-कोटा (नसीराबाद-जलिंदरी), दिल्ली-सोहना-नूह-फिरोजपुर झिरका-अलवर , पुष्कर-मेड़ता।
>नई लाइनों का सर्वे : पदमपुर, गोलूवाला, रावतसर, तारानगर, ददरेवा के रास्ते गजसिंहपुर-सादुलपुर, लूणकरणसर-सरदारशहर, पीपाड़ रोड-गोपालगढ़-असोप-शंकवास, मुंडवा-नागौर, मौड़ासा-मेघराज-बांसवाड़ा।
>दोहरीकरण के लिए यहां होगा सर्वे : भटिंडा-अबोहर-श्रीगंगानगर, सूरतगढ़-भटिंडा, चित्तौडग़ढ़-महू।
जैसलमेर-सानू रेल लाइन को हरी झंडी, आधा पैसा देगा राज्य
रेल बजट में जैसलमेर (थयात-हमीरा) से सानू तक 60 किमी. लंबी रेल लाइन बिछाने को हरी झंडी दी गई है। इस पर करीब 236.93 करोड़ रु. की लागत आएगी। आधी राशि राज्य सरकार का उपक्रम आरएसएमएमएल वहन करेगा। मुख्य सचिव और आरएसएमएमएल के चेयरमैन सी.के. मैथ्यू इसकी सहमति दे चुके हैं।
ने रेलवे अधिकारियों के साथ बातचीत में इसकी सहमति दे दी थी। यह रेलमार्ग अभी जैसलमेर से ट्रकों द्वारा लाइस्टोन के परिवहन में आ रही दिक्कतों को दूर करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाएगा।
उल्लेखनीय है कि आरएसएमएमएल और मैसर्स सैल के बीच स्टील ग्रेड लाइम स्टोन सप्लाई का एमओयू हुआ है। इसके अनुसार 2013-14 के बाद लाइम स्टोन की मांग बढ़ेगी। इस रेल लाइन के लिए दो बार सर्वे हो चुका था।