• Hindi News
  • 4 SI Stuck On The Promotion Of Excess License

सीमा से अधिक लाइसेंस बनाने पर 4 SI का प्रमोशन अटका

9 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
जोधपुर.प्रादेशिक परिवहन विभाग के चार इंस्पेक्टर को प्रतिदिन तय सीमा से अधिक लाइसेंस बनाना भारी पड़ गया है। राज्य सरकार ने विभाग के सब-इंस्पेक्टर दिनेश शर्मा, यशपाल सेठ, गोविंद माथुर व विभा व्यास द्वारा प्रतिदिन 25 से अधिक लाइसेंस बनाने पर इनका प्रमोशन रोक दिया है।
इस तरह का यह पहला केस है। वर्ष 2010 में तय सीमा से अधिक लाइसेंस वेरिफिकेशन करने पर पूर्व ट्रांसपोर्ट कमिश्नर निरंजन आर्य ने इस मामले में सब-इंस्पेक्टर को नोटिस देते हुए मामले की जांच के आदेश दिए। उधर विभाग के कैलाश शर्मा, भारत जांगिड़ और मनीष माथुर को उत्कृष्ट कार्य के लिए मोटर वाहन निरीक्षक बनाया है।
भास्कर ने इस मामले की पड़ताल की तो पता चला कि जोधपुर परिवहन विभाग के एसआई ने तीन साल पूर्व निर्धारित संख्या से अधिक लाइसेंस बनाए थे।
इसकी एवज में सरकार ने इनका प्रमोशन रोक दिया है। फिलहाल इनके खिलाफ विभागीय जांच चल रही है। मुख्यालय द्वारा निर्धारित मापदंडों के अनुसार विभाग के इंस्पेक्टर व सब-इंस्पेक्टर एक दिन में 25 टू-व्हीलर व हैवी लाइसेंस बनाने का वेरिफिकेशन कर सकते है।
परिवहन विभाग के पूर्व ट्रांसपोर्ट कमिश्नर निरंजन आर्य द्वारा वर्ष 2010 में कराई गई जांच के अनुसार सब-इंस्पेक्टर यशपाल सेठ को प्रतिदिन 25 लाइसेंस के हिसाब से एक सप्ताह में 175 लाइसेंस वेरिफिकेशन करने थे। मगर उन्होंने 182 लाइसेंस बना दिए।
दिनेश शर्मा ने 175 की जगह 210 लाइसेंस, गोविंद माथुर ने 188 और विभा व्यास ने 192 लाइसेंस बना दिए थे। इस पर कमिश्नर ने मामले की जांच शुरू करवा दी। करीब तीन साल होने के बाद भी जांच पूरी नहीं हुई है। फिलहाल मुख्यालय इस मामले में जांच चलने की बात कह रहा है।
तीन को मिला तोहफा
राज्य सरकार द्वारा प्रदेश के परिवहन विभाग के सब-इंस्पेक्टर का प्रमोशन कर उन्हें मोटर वाहन निरीक्षक बनाया है। इसके तहत पीपाड़ उप परिवहन कार्यालय के कैलाश शर्मा, भारत जांगिड़ और मनीष माथुर को मोटर वाहन निरीक्षक बनाया है।
विभागीय जांच चल रही है
'जोधपुर के 4 सब-इंस्पेक्टर के प्रमोशन रोके गए हैं। इन्होंने तय सीमा से अधिक लाइसेंस बनाकर नियमों की अवहेलना की है। इनके खिलाफ विभागीय जांच चल रही है। इस बारे में पत्र लिखकर इनसे पूछा भी जाएगा।'
पवन अरोड़ा, एडिशनल ट्रांसपोर्ट कमिश्नर राजस्थान