• Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Jodhpur
  • जीएसटी पर भास्कर की वर्कशॉप आयोजित विशेषज्ञों ने दिखाई राह

जीएसटी पर भास्कर की वर्कशॉप आयोजित विशेषज्ञों ने दिखाई राह

4 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
Q. मेरी कॉमर्शियल प्रॉपर्टी से किराए की इनकम 12 लाख है, जो जीएसटी में टैक्सेबल है। इसके साथ मैं 15 लाख के टैक्स फ्री आइटम की सप्लाई करता हूं। क्या में जीएसटी के लिए उत्तरदायी रहूंगा?

A. हां।क्योंकि, इन दोनों का कुल योग (टर्नओवर) 27 लाख है। इसलिए जीएसटी में रजिस्ट्रेशन के लिए उत्तरदायी होंगे। यदि दो जने सिर्फ कर मुक्त सप्लाई कर रहे हैं, तो उनको जीएसटी में रजिस्ट्रेशन की जरूरत नहीं है, चाहे टर्नओवर कितना भी हो।

Q.एक रूम का किराया 2400 रुपए है। उसी में एक्स्ट्रा बेड लगाने पर 600 रुपए एक्स्ट्रा चार्ज करते हैं। इस स्थिति में टैक्स रेट 12% रहेगी या 18%?

A. टैक्सरेट रूम किराए के हिसाब से तय होगी। 2400 रुपए के रूम पर टैक्स रेट 12% है, लेकिन उस रूम पर वसूल की गई पूरी राशि 3000 पर चार्ज होगा।

Q.एक्सपोर्टर्स बॉन्ड या एलयूटी कहां-कहां दे सकते हैं?

A. एक्सपोर्टकिए जाने वाले माल को भेजने के लिए जरूरी बॉन्ड या एलयूटी राज्य कर विभाग में भी जमा करवा सकते हैं। अब तक यह सिर्फ एक्साइज डिपार्टमेंट ही जमा होता था। अब दोनों विभागों में यह सुविधा मिलेगी। आईजीएसटी टैक्स का भुगतान भी दोनों ही जगह कर सकेंगे। शुक्रवार को ही राज्य कर आयुक्त ने इसके लिए जॉइंट कमिश्नर, डिप्टी कमिश्नर और असिस्टेंट कमिश्नर को अधिकृत किया है।

खबरें और भी हैं...