कोर्ट ने मांगा बीजेएस कॉलोनी का लेआउट प्लान

5 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
राजस्थानहाईकोर्ट के चीफ जस्टिस नवीन सिन्हा जस्टिस गोवर्धन बाढधार की खंडपीठ ने एक जनहित याचिका की सुनवाई करते हुए बीजेएस कॉलोनी का लेआउट प्लान तलब किया है। इस मामले में अगली सुनवाई जनवरी में होगी।

याचिकाकर्ता जोधपुर गुड्स ट्रांसपोर्ट एसोसिएशन की ओर से अधिवक्ता हापूराम विश्नोई की ओर से दायर जनहित याचिका में बताया कि आरटीओ ऑफिस रेजिडेंशियल कॉलोनी के बीच में स्थित है वर्ष 2008 में इसे नेशनल हाइवे के समीप शिफ्ट करने के आदेश दिए जा चुके हैं, लेकिन शिफ्टिंग करने की जगह विभाग की ओर से मौजूदा भवन में ही रिनोवेशन का काम करवाया जा रहा है। इससे इस क्षेत्र में भारी वाहनों को फिटनेस के लिए आने में दिक्कत का सामना करना पड़ता है।

जबकि अतिरिक्त महाधिवक्ता केएल ठाकुर ने कोर्ट को बताया कि भारी वाहनों के फिटनेस के लिए शहर के अलग-अलग तीन जगहों पर फिटनेस सेंटर बना रखे हैं। इसके अलावा टू व्हीलर के नंबर के लिए भी डीलर्स को अधिकृत किया गया हैं। ऐसे में मौजूदा जगह पर आरटीओ ऑफिस संचालित हो तो किसी तरह की दिक्कत नहीं होगी। कोर्ट के समक्ष रेजिडेंशियल बीजेएस कॉलोनी में कॉमर्शियल ऑफिस पर अचरज जताया तथा बीजेएस कॉलोनी का ले आउट प्लान तलब किया है। सरकार की ओर से जवाब के लिए मोहलत मांगने पर अगली सुनवाई जनवरी में मुकर्रर की है।

खबरें और भी हैं...