पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Jodhpur
  • कुरीतियों से बचने और सफल जीवन के लिए ओसवाल वंश की हुई स्थापना : चिरंतनरत्न

कुरीतियों से बचने और सफल जीवन के लिए ओसवाल वंश की हुई स्थापना : चिरंतनरत्न

4 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
महावीर कॉम्पलेक्स | आत्मा के उत्थान के लिए कर्म बंध तोड़ें : रूप मुनि

लोकमान्यसंत रूप मुनि महाराज ने कहा है कि कर्म बंध को तोड़कर ही आत्मा का उत्थान किया जा सकता है। साधु उपदेश दे सकता है, आदेश नहीं दे सकता। उन्होंने कहा कि सामायिक करने में समरसता बढ़ती है। उन्होंने कहा कि जितना धर्म करेंगे, उसका प्रतिफल उतना ही मिलेगा। उप प्रवर्तक सुकन मुनि ने दान की महिमा बताते हुए कहा कि इसे देने पर आत्मा आनंदित हो जाती है। दान देने वाला राजा कर्ण की तरह महान बन जाता है। महेश मुनि ने कर्म की महत्ता बताते हुए इससे संबंधित भजन सुनाए। दीपेश मुनि ने कहा कि अपना कर्तव्य निभाने से व्यक्ति राजा हरीशचंद्र की तरह इतिहास में अमर हो जाते हैं।

निमाजकी हवेली | तप से कर्मों की निर्जरा होती है : प्रीति सुधा

साध्वीप्रीति सुधा ने तप की महिमा बताते हुए कहा कि तप से कर्मों की निर्जरा होती है। इसके लिए गृहस्थ जीवन में रहकर भी तपस्या की जा सकती है। इस मौके पर बहिन सविता के छह उपवास के पचखान कराकर तप की अनुमोदना की गई।

र| प्रभ क्रिया भवन में ओसवाल वंश की स्थापना पर चर्चा की गई।

खबरें और भी हैं...