पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • ओमप्रकाश के छुट्‌टी पर रहने के दौरान भी कटी पांच फर्जी रसीदें

ओमप्रकाश के छुट्‌टी पर रहने के दौरान भी कटी पांच फर्जी रसीदें

7 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
उम्मेदचौकी प्रभारी एसआई रघुवीर सिंह ने बताया कि अस्पताल प्रबंधन की शिकायत पर सॉफ्टवेयर इंजीनियर उम्मेद सिंह भाटी, अधीक्षक डॉ. अनुराग सिंह, उप अधीक्षक डॉ. मूथा, रक्तकोष प्रभारी डॉ. मंजू बोहरा और एएओ गोपालराज भंडारी के बयान दर्ज किए गए हैं। आरोपी ओमप्रकाश से पूछताछ जारी है। इसके साथ पुलिस ने अस्पताल से रसीदों का रिकॉर्ड भी मांगा है। रिकॉर्ड की जांच के बाद ही स्थिति साफ होगी।

जांचजारी है

^अस्पतालप्रबंधन ने मामले की जांच के लिए कमेटी बनाई है। कमेटी सभी फर्जी रसीद, उनके समय, ड्यूटी पर काैन था पैसे का गबन किसने किया, इसकी जांच करेगी। जिसकी भी भूमिका होगी उसे सामने लाया जाएगा। अस्पताल में अब पैसा कलेक्ट करने के लिए नई व्यवस्था के तहत एक कार्मिक की ड्यूटी भी लगा दी गई है। -डॉ.अनुराग सिंह अधीक्षक, उम्मेदअस्पताल

पहले से अपलोड था सॉफ्टवेयर

सॉफ्टवेयरइंजीनियर उम्मेद सिंह भाटी ने बताया कि कम्प्यूटर में पहले से यह सॉफ्टवेयर अपलोड था, क्योंकि इसको बार-बार इंस्टॉल करने में समय लगता है। आरोपी ओमप्रकाश के छुट्टी पर होने पर अन्य लोग भी इसका उपयोग कर सिंगल डोनर प्लेटलेट्स (एसडीपी) की रसीद बनाते थे।

अबबदली कैश कलेक्शन की व्यवस्था

अस्पतालप्रबंधन ने कैश काउंटर से पैसा गबन होने के मामले का खुलासा होने के बाद व्यवस्था में बदलाव किया है। अस्पताल के स्थाई सूचना सहायक को कैश वेरिफिकेशन करने की जिम्मेदारी दी गई है।

जांचके लिए जब्त किया कम्प्यूटर

जांचकमेटी के अध्यक्ष उप अधीक्षक डाॅ. केएन मूथा ने कहा कि जांच के लिए कैश काउंटर से कम्प्यूटर सेट को जब्त कर लिया गया है। वहीं ठेका फर्म प्रेम संस्थान से गबन के पूरे पैसे की रिकवरी की जाएगी।

भास्कर न्यूज | जोधपुर

उम्मेदअस्पताल में सॉफ्टवेयर में हेरफेर कर ब्लड बैंक की रसीदों में गड़बड़झाला करने के मामले में कैश काउंटर का कम्प्यूटर ऑपरेटर ओमप्रकाश अकेला दोषी नहीं है, अन्य कम्प्यूटर ऑपरेटर भी इस मामले में शामिल हो सकते हैं। क्योंकि आरोपी ओमप्रकाश 12 से 26 अक्टूबर के बीच 15 दिन छुट्टी पर अपने गांव ओसियां गया हुआ था, जबकि अस्पताल प्रबंधन को जांच में इस बीच भी 5 रसीद फर्जी मिली हैं। इससे साबित होता है कि दूसरे कम्प्यूटर ऑपरेटरों की भी इस मामले में मिलीभगत है। आरोपी ओमप्रकाश ने भी पुलिस की प्रारंभिक पूछताछ अपने इकबालिया बयान में इसका