पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • AC Coach Wade Then Took Fire, CCTV Camera Footage

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

एसी कोच से उतारा तो लगा दी आग, सीसीटीवी कैमरे की फुटेज से हुआ खुलासा

9 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
जोधपुर. एसी कोच से नीचे उतारने की बात से गुस्साए सिरफिरे युवक गंगाराम ने बदला लेने के लिए मंडोर एक्सप्रेस और सूर्यनगरी एक्सप्रेस के कोच में आग लगाई थी। सीसीटीवी फुटेज से आरपीएफ ने इस युवक की पहचान कर उसे हिरासत में लिया। युवक ने पूछताछ में स्वीकार किया कि उसने ही आग लगाई थी। पकड़े गए युवक को न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया है। मंडल रेल प्रबंधक राजेंद्र जैन व आरपीएफ कमांडेंट आशीष मिश्रा ने शनिवार को पत्रकारों से बातचीत में पूरे मामले का खुलासा किया। डीआरएम ने बताया कि शुक्रवार को दो ट्रेनों के एसी कोच जलने व तीसरे को नुकसान पहुंचने के हादसे के बाद रेलवे प्रशासन जांच में जुटा था। पहले आशंका थी कि आग शायद शॉर्ट सर्किट से लगी होगी। दूसरा, किसी ने जानबूझकर लगाई होगी। जांच में किसी साजिश का भी अंदेशा हुआ। सीसीटीवी कैमरे की रिकॉर्डिग देखने के बाद यह पुख्ता हुआ कि कोच में आग जानबूझकर लगाई गई। सबूतों के आधार पर युवक को शुक्रवार रात 10:30 बजे स्टेशन के बाहर सर्कुलेटिंग एरिया से ही हिरासत में लिया गया। युवक की पहचान शेरगढ़ तहसील के बेलवा निवासी गंगाराम पुत्र ईकजी के रूप में हुई। यह लंबे समय से जोधपुर में ही रहता है और रेलवे स्टेशन के अंदर व बाहर घूमता रहता है। काम आई कुली-वेंडर मित्र योजना रेलवे के दो ट्रेनों के एसी कोच में आग लगाने के आरोपी युवक को पकड़ने में आरपीएफ ने मुखबिरों की मदद ली। इसके तहत आरपीएफ ने कुली-वेंडर मित्र योजना के तहत बनाए मुखबिरों ने आरोपी की पहचान करवा दी। मैंने तो नहीं देखी दमकल रेलवे के फायर स्टेशन को बंद करने के सवाल पर डीआरएम ने कहा कि उन्होंने जब से यहां काम संभाला है, तब से दमकल नहीं देखी। आग लगने पर काबू पाने के लिए स्टाफ को ट्रेनिंग दी जाती है। उन्होंने माना कि सिविल कार्यकर्ता छोटी आग पर काबू पा सकते हैं, बड़ी आग पर काबू पाना उनके बस की बात नहीं है। 62 कर्मचारियों के बयान हुए हादसे की जांच के लिए गठित तीन अफसरों की कमेटी शनिवार सुबह जोधपुर पहुंची और डीआरएम से मिलकर पूरे घटनाक्रम की जानकारी ली। जांच कमेटी ने पूरे दिन में 62 रेल कर्मियों के बयान कलमबद्ध किए। इसमें स्टेशन मास्टर, चालक, केबिनमैन सहित कैरिज स्टाफ के सभी कर्मचारियों के बयान लिए गए। कमेटी इस बात की जांच कर रही है कि इस हादसे में रेलकर्मचारियों की लापरवाही किस हद तक रही। विभागीय कार्रवाई के लिए लिखेंगे तीन कोच में आग लगाने वाले युवक को गिरफ्तार कर लिया है। उसे न्यायिक हिरासत में भेजा गया है। सुलगते कोच को लॉक करने वाले कर्मचारियों की पहचान कर उनकी लापरवाही पर विभागीय कार्रवाई के लिए लिखेंगे। मंसूर अली, डीएसपी, जीआरपी 10 लाख से ज्यादा का नुकसान रेलवे प्रशासन शुक्रवार को कोच में आग लगने की घटना में हुए नुकसान के आकलन में जुटा है। डीआरएम राजेंद्र जैन ने माना कि सूर्यनगरी व मंडोर एक्सप्रेस के दो कोच जल गए। एक को आंशिक नुकसान पहुंचा। प्रारंभिक आकलन में दो कोच जलने से रेलवे को दस लाख रुपए से ज्यादा का नुकसान हुआ है। यह नुकसान बढ़ सकता था, लेकिन सभी के सहयोग से आग पर तुरंत काबू पा लिया गया। ऐसे पकड़ा गया गंगाराम : सीसी टीवी की इसी फुटेज की मदद से कोच में आग लगाने वाला गंगाराम पकड़ा गया। इस फुटेज में भी गंगाराम वही शर्ट पहने है, जिसमें उसे शनिवार को गिरफ्तार किया गया था। शुक्रवार सुबह 6:20 बजे सूर्यनगरी सिटी स्टेशन के प्लेटफार्म नंबर एक पर आई। यात्रियों के उतरने के बाद लिनेन प्लेटफार्म पर उतारा। वाशिंग लाइन जाने के 20 मिनट पहले ही गंगाराम सूर्यनगरी के एसी कोच में घुसा। उसकी संदिग्ध गतिविधियां देखकर लिनेन के मैनेजर व कोच अटेंडेंट ने गंगाराम को नीचे उतार दिया। उसकी मैनेजर व कोच अटेंडेंट से कहासुनी के बाद हाथापाई भी हुई। गंगाराम ने जाने से पहले देख लेने की धमकी भी दी। सीसीटीवी के फुटेज में गंगाराम सुबह 7:44 बजे कोच में घुसते हुए दिख रहा है। कोच अटेंडेंट के नीचे उतरते ही गंगाराम कोच में घुस गया और लिनन व चद्दरों में आग लगा दी। आग ट्रेन के स्टेशन से वाशिंग लाइन के लिए रवाना होते ही लगा दी थी। बाद में उसने मंडोर एक्सप्रेस में के एचए-वन में भी आग लगा दी। बदला लेने की बात का जिक्र उसने अपने साथियों से भी किया था। भास्कर ने बताया था, स्टेशन पर लगाई थी आग भास्कर ने अपनी जांच में शनिवार को ही बता दिया था कि कोच में आग स्टेशन पर ही लगा दी गई थी। शनिवार को सीसीटीवी फुटेज में भी इसका खुलासा हो गया। उधर, इस मामले में रेलवे कर्मचारियों ने गंभीर लापरवाही बरती और सुलगते कोच को ही लॉक कर यार्ड में भेज दिया। यदि कोच लॉक करने से पहले भीतर झांक लेते तो यह हादसा नहीं होता। जीआरपी गंगाराम से पूछताछ के साथ उन कर्मचारियों की पहचान कर रही है, जिन्होंने सुलगते कोच को लॉक किया था। जीआरपी की ओर से इन कर्मचारियों के खिलाफ विभागीय कार्रवाई की सिफारिश की जा सकती है।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- वर्तमान परिस्थितियों को समझते हुए भविष्य संबंधी योजनाओं पर कुछ विचार विमर्श करेंगे। तथा परिवार में चल रही अव्यवस्था को भी दूर करने के लिए कुछ महत्वपूर्ण नियम बनाएंगे और आप काफी हद तक इन कार्य...

और पढ़ें