पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • The Hospital Newborn So That Scarred Fingers Palm Led To Cuts!

अस्पताल ने ऐसा जख्म दिया कि नवजात की अंगुलियां - हथेली कटने की नौबत

9 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
जोधपुर.मसूरिया स्थित रामदेव अस्पताल में जन्म के तुरंत बाद हीटर से झुलसी बच्ची को इलाज के लिए परिजन अहमदाबाद ले गए हैं। उसका उपचार अहमदाबाद के स्टर्लिग अस्पताल में शुरू हुआ है। प्रारंभिक जांच में डॉक्टरों ने बच्ची के गंभीर रूप जले हाथ की अंगुलियां व हथेली का हिस्सा खराब होने की बात परिजनों को बताई है।
दो अंगुलियां व आधा अंगूठा पूरी तरह से खराब हो गए हैं। कुछ दिनों बाद इन्हें काटा भी जा सकता है। इससे बच्ची के ताउम्र विकलांगता भुगतने की आशंका बन गई है।
अहमदाबाद गए बच्ची के मामा कुंदन ने दैनिक भास्कर को फोन पर बताया कि अस्पताल के डॉ.हेमंत जाजू के अनुसार शरीर में संक्रमण नहीं फैले, इसलिए अभी अंगुलियां कुछ दिन रुक कर काटी जाएंगी। इसको लेकर परिजन भी खासे चिंतित हैं। गौरतलब है कि गत शनिवार शाम मधुबन निवासी ज्योति ने पुत्री को जन्म दिया था।
जन्म के तुरंत बाद लेबर रूम में नवजात के पास हीटर रखने से उसका चेहरा, सीना व हाथ झुलस गए थे। दैनिक भास्कर ने इस मामले का अगले ही दिन खुलासा किया था। इसके बाद पुलिस ने डॉ. देवकरण रामदेव सहित कुल पांच जनों के विरुद्ध स्वप्रेरणा से मामला दर्ज किया है।
जांच कमेटी ने रिकॉर्ड देखा
इस मामले में पहले अपने अस्पताल की लापरवाही स्वीकार कर बच्ची का अपने स्तर पर श्रीराम अस्पताल में उपचार करवाने वाले रामदेव अस्पताल के संचालक डॉ. देवकरण रामदेव ने स्वास्थ्य विभाग को भेजे अपने जवाब में लापरवाही से इनकार कर दिया था।
इसको लेकर मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ अधिकारी की ओर से गठित जांच कमेटी ने शुक्रवार को श्रीराम अस्पताल में हुए बच्ची के उपचार से जुड़ा रिकॉर्ड देखा।