पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • कदम से कदम मिला कर निकला पथ संचलन

कदम से कदम मिला कर निकला पथ संचलन

7 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
कोटा। आरएसएसके स्वयंसेवकों द्वारा गुरूनानक जयंती और कार्तिक पूर्णिमा के पावन अवसर पर गुरुवार को महानगर पथ संचलन निकाला गया। आरएसएस के प्रचार प्रमुख महेश शर्मा ने बताया कि गुमानपुरा स्थित मल्टीपरपज स्कूल में स्वयंसेवक एकत्रित हुए।

यहां से पथ संचलन निकला, जिसका रास्ते में सामाजिक व्यापारिक संस्थानों ने उत्साह से पुष्प वर्षा कर स्वागत किया। संघ के पूर्ण गणवेश में स्वयंसेवक खाकी नेकर, सफेद कमीज, सिर पर काली टोपी, हाथ में दंड के साथ पथ संचलन में शामिल हुए। स्वयंसेवक घोष (बैंड) की धुन पर कदम से कदम मिलाते चल रहे थे। केसरिया ध्वज फहराकर संघ प्रार्थना के बाद स्वयंसेवकों का पथ संचलन रवाना हुआ। संचलन मल्टीपरपज स्कूल से गुमानपुरा पुलिया, कैथूनीपोल चौराहा, अग्रसेन बाजार, रामपुरा, सरोवर टॉकीज से न्यू क्लॉथ मार्केट, सब्जीमंड़ी, गुजराती समाज भवन होते हुए वापस मल्टीपरपज स्कूल पहुंचा। जहां ध्वज उतरने की रस्म के साथ ही पथ संचलन का समापन हुआ। संघ के प्रचार प्रमुख महेश शर्मा ने बताया कि पथ संचलन से पहले मुख्य वक्ता नगर संघ चालक रिटायर्ड बैंक अधिकारी प्रहलाद गोस्वामी ने स्वयंसेवकों को संबोधित किया। उन्होंने कहा कि स्वयंसेवक राष्ट्र चेतना प्रहरी के रूप में मातृभूमि की सेवा का ईश्वरीय कार्य कर रहे हैं। मुख्य अतिथि समाजसेवी हड्डी रोग विशेषज्ञ डॉ. एसपी खनुजा ने बताया कि गुरुनानक ने जो पंथ चलाया है। उसे सिख पंथ खालसा के रूप में 10 गुरुओं ने आगे बढ़ाया और समाज में एकता समरसता का निर्माण किया। समाज से प्रचलित कुरीतियों को समाप्त किया। इस दौरान आरएएस के महानगर संघचालक तारा चंद्र गोयल भी मंचासीन रहे।