पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • दिनचर्या ठीक होती तो अंकुर करता हत्या

दिनचर्या ठीक होती तो अंकुर करता हत्या

7 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
कोटा| जैनसमाज के राष्ट्रीय संत मुनि पुगंव सुधा सागर महाराज ने कहा कि धर्म संस्कार की बातें बचपन से ही सिखाए जाए तो कोई भी व्यक्ति व्यभिचार से अभिभूत होकर कभी भी अपराध की दुनिया में कदम रख ही नहीं सकता। अच्छे परिवेश संगत में रहने वाला कभी असत्य पाप के मार्ग पर जाने की सोच भी नहीं सकता।

महाराज श्री गुरुवार को श्री दिगम्बर जैन धर्म प्रभावना समिति कोटा की ओर से आरएसी मैदान में आयोजित धर्म सभा में बोल रहे थे। मुनिश्री ने कहा कि जीवन में नाम धन प्राप्ति के लिए छल, बल बाहुबल का सहारा कभी लें। महाराज श्री ने कहा कि अगर रुद्राक्ष के हत्यारे अंकुर की दैनिक दिनचर्या ठीक रहती तो वह कभी भी पाप के रास्ते पर जाने की सोचता भी नहीं, लेकिन जुआं, सट्टा बुरी लत के चलते उसके मानवता के विपरीत पाप का रास्ता चुना और अपहरण हत्या जैसा जघन्य अपराध कर बैठा, जिसका खामियाजा उसे ही नहीं उसके पूरे परिवार को उठाना पड़ रहा है।

सुधासागर महाराज का पाद प्रक्षालन करते श्रावक।