आप भी जुड़ सकते हैं मुहिम से

6 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
आगे आए श्रम संगठन आईएल की लड़ाई में मिलाया कंधे से कंधा

आईएल बंद नहीं हो, इसके लिए पीएम से फिर मिलूंगा : बिरला

जरूरत पड़ी तो आईएल चलाने के लिए कोर्ट तक जाऊंगा : धारीवाल


मैंने भेल में विलय का सुझाव दिया था, लेकिन उन्होंने मना कर दिया। अब आईएल प्रबंधन ही प्लान बताए क्योंकि उनको बेहतर पता है। मैं उसे सरकार तक पहुंचाने की गारंटी लेता हूं।

आईएल ने कई देशों की टेक्नोलॉजी का भारतीयकरण किया है। यह सब फालतू बातें हैं कि कंपनी के पास नई मशीनरी या अत्याधुनिक टेक्नोलॉजी नहीं है।

आईएल कोटा की धड़कन है। शहरवासी इस पर एक राय हैं कि कंपनी हर हाल में चलनी चाहिए। चाहे सत्ताधारी दल भाजपा के जनप्रतिनिधि हों या फिर विपक्ष में बैठे कांग्रेस के नेता। सभी एकसुर में इस उद्योग को जिंदा रखने की बात कहते हैं। इसी मुद्दे पर भास्कर ने कांग्रेस नेता पूर्व मंत्री शांति धारीवाल भाजपा सांसद ओम बिरला से सीधी बात की। धारीवाल ने जहां आईएल को चलाने के लिए रिवाइवल का प्लान बताया। वहीं, बिरला ने इस मुद्दे को प्रधानमंत्री के सामने रखने का आश्वासन दिया।
खबरें और भी हैं...