• Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Kota
  • 7 जनवरी तक घोटालों की जांच पूरी करो वरना राज्य सरकार के पास जाएगा मामला

7 जनवरी तक घोटालों की जांच पूरी करो वरना राज्य सरकार के पास जाएगा मामला

5 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
निगममें पिछले वर्षों में हुए 3 घोटालों की जांच पूरी नहीं करने तथा निर्माण कार्य में भेदभाव करने से खफा कांग्रेस ने पार्षद द्वारा आमरण अनशन पर बैठने से पूर्व बुधवार को सांकेतिक धरना दिया। इस पर महापौर महेश विजय ने धरनास्थल पर पहुंचकर घोषणा की कि वे तीनों घोटालों की जांच 7 जनवरी तक पूरी करने के लिए अधिकारियों को पाबंद कर रहे हैं। उसके बाद जिसने जांच रिपोर्ट नहीं दी उस अधिकारी के नाम के साथ मामला राज्य सरकार को भेज दिया जाएगा। साथ ही निर्माण में भेदभाव को दूर करने के लिए शीघ्र ही पार्षदों अधिकारियों की बैठक बुलाई जाएगी। इस आश्वासन के बाद कांग्रेस पार्षद दिलीप पाठक द्वारा गुरुवार से किया जाने वाला आमरण अनशन 7 जनवरी तक स्थगित कर दिया।

पूर्व घोषित कार्यक्रम के अनुसार बुधवार सुबह से ही कांग्रेस पार्षद दिलीप पाठक, मोहम्मद हुसैन मोमदा, अनिल सुवालका, राखी गौतम, मोनू कुमारी, शमा मिर्जा के साथ-साथ कांग्रेस के वरिष्ठ नेता निगम के बाहर धरने पर बैठे। धरने को जिलाध्यक्ष गोविंद शर्मा, प्रदेश महासचिव पंकज मेहता, यूआईटी के पूर्व अध्यक्ष रविंद्र त्यागी, पीसीसी सदस्य राजेंद्र सांखला, शहर महिला कांग्रेस रचना राठौर, देहात महिला कांग्रेस अध्यक्ष किरण पारेता सहित कई नेताओं ने संबोधित किया। सभी वक्ताओं ने निगम की कार्यप्रणाली पर सवाल उठाए और भ्रष्टाचार को बढ़ावा देने के आरोप लगाए। धरने के बाद दोपहर 3 बजे सांखला, विजय सोनी आदि कांग्रेसी महापौर को अल्टीमेटम देने के लिए पहुंचे। जहां महापौर का घेराव किया। महापौर को लेकर धरना स्थल पर गए। महापौर ने जांच करवाने और भेदभाव मिटाने की बात कही। उसके बाद धरना समाप्त कर दिया। संचालन इसरार मोहम्मद ने किया।

नगर निगम के सामने सांकेतिक धरने को संबोधित करते कांग्रेसी पार्षद दिलीप पाठक।

खबरें और भी हैं...