• Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Kota
  • नए साल में शहर को मिलेंगे 132 केवी के दो जीएसएस

नए साल में शहर को मिलेंगे 132 केवी के दो जीएसएस

5 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
शहरको 2017 में 132 केवी के दो नए जीएसएस मिलेंगे। दादाबाड़ी नांता जीएसएस मार्च तक तैयार हो जाएंगे। वर्ष 1996 में गोपाल मिल में अंतिम 132 केवी जीएसएस शहर में बना था। उसके बाद 2010 में नए जीएसएस की मांग उठने लगी थी। नए जीएसएस से गर्मी में कम वोल्टेज आने और बार-बार बिजली ट्रिप होने की समस्या से निजात मिलेगी। अभी शहर में ऐसे तीन जीएसएस हैं। इन पर शहर का विद्युत तंत्र निर्भर है। गर्मी में उक्त जीएसएस पर बिजली का लोड ज्यादा रहता है। जो अब नए जीएसएस मिलने पर बंट जाएगा। शहर में ऐसे पांच जीएसएस हो जाएंगे।

विद्युत प्रसारण निगम के एसई तुलसीराम ने बताया कि दादाबाड़ी नांता जीएसएस को मार्च 2017 में पूरा करना है। 21.60 करोड़ की लागत से बन रहा दादाबाड़ी जीएसएस का सिविल इलेक्ट्रिकल का 80 फीसदी काम पूरा हो गया है। विद्युत लाइन का काम भी शुरू हो चुका है। कोटा डेयरी चौराहे से जीएसएस तक लाइन डाली जाएगी। वहीं नांता जीएसएस के सिविल वर्क के टेंडर लग गए हैं। यूआईटी ने प्रसारण निगम को 18287 वर्ग मीटर जमीन दे दी है। जिसके बदले निगम ने यूआईटी को 13 करोड़ 18 लाख 5 हजार 38 रुपए जमा करा दिए हैं। यह जीएसएस 15 करोड़ की लागत से बनकर तैयार होगा। सकतपुरा 220 केवी से जीएसएस तक लाइन डाली जाएगी।

चंबल गार्डन के सामने बनाया जा रहा जीएसएस।

राहत

खबरें और भी हैं...