पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • No Survey Or Opinion Has Turned Off The Road UIT

न सर्वे न राय, यूआईटी ने बंद कर दी सड़क

9 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
कोटा.लक्की बुर्ज से बड़ तिराहे वाली 40 फीट चौड़ी लिंक रोड को यूआईटी ने दिन के लिए बंद कर दिया है। अब बड़ तिराहे से लक्की बुर्ज के लिए करीब 2 किमी का चक्कर लगाना पड़ेगा। पहले मात्र 600 मीटर का रास्ता तय करना पड़ता था।
इस व्यवस्था के पीछे यूआईटी दुर्घटना की आशंका जता रहा है। जबकि न तो इसके लिए कोई सर्वे हुआ और न लोगों की राय ली गई। कलेक्टर भी कह रहे हैं कि उन्हें तो पता ही नहीं सड़क बंद हो गई है।
यूआईटी द्वारा किशोरसागर व सीवी गार्डन के बीच की लिंक रोड पर स्काउट गाइड कार्यालय के पास से तथा दूसरी तरफ लक्की बुर्ज से आगे शिवलिंग के पास स्लाइडिंग वाले गेट लगाए जा रहे हैं। वहां से केवल पैदल ही लोग आ जा सकेंगे।
एक तरफ का गेट लग चुका है और दूसरी तरफ की तैयारी चल रही है। फिलहाल यूआईटी इस गेट को सुबह व शाम को बंद रखेगा। यदि दिन में यहां आने वालों की संख्या बढ़ेगी तो दोपहर में भी इसे बंद रखा जाएगा।
रात को रोड खुला रहेगा। लिंक रोड से नयापुरा की तरफ से गुमानपुरा, कोटड़ी जाने वाले तथा गुमानपुरा कोटड़ी से रामपुरा, गुलाब बाड़ी आने-जाने वाले वाहन चालक अधिक गुजरते हैं।
इस रास्ते के बंद होने के बाद से वाहन चालकों को वल्लभबाड़ी वाली लिंक रोड अथवा जेडीबी के सामने से होकर अग्रसेन चौराहे वाले मार्ग से आना-जाना पड़ेगा।
दुर्घटना का डर दूर करना है तो और भी कई हैं विकल्प
: किशोरसागर पाल से सीवी गार्डन में फुटओवर ब्रिज बनाया जाता। जैसा चंबल गार्डन और ट्रैफिक गार्डन के बीच है।
: ट्रैफिक सिग्नल लगाए जाते, जो ज्यादा ट्रैफिक होने पर चलाए जाते।
: क्रॉस बेरिकेडिंग कर स्पीड कम करते हैं।
: पर्याप्त दूरी पर स्पीड ब्रेकर बनाए जाते, जिनकी शहर में भरमार है। इससे वाहनों की गति नियंत्रित हो जाती।
: यूआईटी अपने गार्डन की दीवार तोड़कर भी फुटपाथ के लिए जगह निकाल सकता है।
सीधी बात
> लिंक रोड को बंद क्यों किया?
- किशोरसागर व सीबी गार्डन में लोग आराम से घूम सकें।
> इससे लोगों को परेशानी होगी उसका क्या?
- कोई आवागमन बाधित नहीं होगा। पहले भी ये रास्ता 4 पहिया वाहनों के लिए बंद रहता था। (जबकि वाहन जाते हैं।) लोग स्टेडियम के सामने से होकर नयापुरा तथा वल्लभबाड़ी वाली 100 फीट चौड़ी सड़क से कोटड़ी निकल सकते हैं।
>लोग 2 किलोमीटर लंबा चक्कर लगाएंगे तो आर्थिक भार पड़ेगा?
- ज्यादा फर्क नहीं पड़ेगा। शहर के लोगों की सुविधा के लिए ही ऐसा किया है।
>कोई और भी विकल्प हो सकता था, जैसे फुटओवर ब्रिज या स्पीडब्रेकर, स्टॉप लाइट आदि?
- भीड़ इतनी रहेगी कि इन विकल्पों से सफलता नहीं मिलेगी। भीड़ के कारण वैसे भी वाहन चलाने के लिए जगह नहीं बचेगी।
मेरी जानकारी में नहीं है
‘यूआईटी द्वारा लिंक रोड बंद करने की मुझे जानकारी नहीं है। यूआईटी के अधिकारियों से चर्चा की जाएगी। मार्ग बंद करने से यदि जनता को परेशानी होगी तो रास्ता खुलवाया जाएगा।’
-राकेश जायसवाल, कार्यवाहक कलेक्टर
‘दुर्घटनाओं की आशंका के कारण सुबह व शाम को इस मार्ग को नो व्हीकल जोन बनाया गया है। ’
- आरडी मीणा, सचिव यूआईटी