• Hindi News
  • National
  • जिले में पहली बार जीआरपी ने 5 हजार लोगों पर दर्ज करवाया मुकदमा, नहीं मिली एके 47 दो पिस्टल

जिले में पहली बार जीआरपी ने 5 हजार लोगों पर दर्ज करवाया मुकदमा, नहीं मिली एके-47 दो पिस्टल

4 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
भास्कर संवाददाता | डीडवाना/नागौर/मेड़ता रोड

गैंगस्टरआनंदपालसिंह के गांव सांवराद में कर्फ्यू 18 जुलाई तक लागू रहेगा। 12 जुलाई को सभा रेलवे संपत्ति को नुकसान पहुंचाने के मामले में जीआरपी ने 5000 लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया है। वहीं, 40 घंटे बाद जोधपुर-रेवाड़ी मार्ग पर शुक्रवार को रेल सेवा शुरू कर दी गई है। हालांकि, गांव में शुक्रवार को भी तनाव बरकरार रहा। हाइवे और गांव में भारी सुरक्षा जाब्ता तैनात है। पुलिस के वाहन लगातार गांव में गश्त कर रहे हैं। डीजी जेल अजीतसिंह और एडीजी (आर्म्ड) ओपी गिल्होत्रा, आईजी मालिनी अग्रवाल, एसपी परिस देशमुख सहित कई अधिकारी सांवराद में डेरा डाले हुए हैं। इस मामले में गिरफ्तार कुछ उपद्रवियों को जमानत पर छोड़ा गया है। इधर, पुलिस से लूटी गई एक एके-47 और दो पिस्टल तीन दिन बाद भी नहीं मिली है। कलेक्टर कुमारपाल गौतम ने बताया कि सांवराद में बुधवार से सात दिन तक के लिए कर्फ्यू लगाया गया था। यह अवधि 18 जुलाई को पूरी होगी। डीडवाना इलाके में इंटरनेट पर प्रतिबंध शनिवार रात 12 बजे तक बढ़ाया है। शुक्रवार को शाम छह से 8 बजे तक कर्फ्यू में ढील दी। माहौल शांतिपूर्ण रहा। इस अवधि में 150 लोग गांव से भीतर गए और बाहर आए। इस दौरान ग्रामीणों ने रोजमर्रा का सामान लिया। नागौर में रात 12 बजे इंटरनेट चालू हो गया।

बड़ी चुनौती, उपद्रवियों की पहचान करना

उपद्रवियोंद्वारा पटरियां उखाड़ने, स्टेशन भवन, 19 सरकारी क्वार्टर, जीआरपी के वाहन जलाने रेलवे संपत्ति को नुकसान पहुंचाने के मामले में जीआरपी थाना मेड़ता रोड में विभिन्न धाराओं में मामला दर्ज हुआ। सांवराद निवासी मघाराम प्रजापत ने रिपोर्ट दी। थानाधिकारी अनोपसिंह जांच कर रहे हैं। इसमें करीब 5 हजार लोगों को आरोपी बनाया गया है। जीआरपी के सामने सबसे बड़ी चुनौती इन सभी आरोपियों की पहचान करना है। जवानों से मारपीट के मामले जसवंतगढ़ थाने में दर्ज हुए हैं। जीआरपी जोधपुर के एसपी ललित माहेश्वरी ने नुकसान का जायजा लिया और घायल जवानों की कुशलक्षेम पूछी। उन्होंने थानाधिकारी अनोपसिंह अन्य जवानों से बातचीत की और हालात की समीक्षा की।

वीडियो देख उपद्रवियों की तलाश: एसपी

योगिता बोलीं: जबरदस्तीकी अंत्येष्टि, कोर्ट जाएंगे

नागौर. सांवराद में कर्फ्यू तीसरे दिन भी जारी रहा। इस दौरान बाइपास पर और गांव में भारी पुलिस जाब्ता तैनात रहा।

^घायल पुलिस, जीआरपी, आरपीएफ और आरएसी जवानों का जयपुर में उपचार चल रहा है। जवानों से लूटे गए हथियार नहीं मिले हैं। चालक मंशाराम अभी आईसीयू में हैं। वीडियो फुटेज देखकर उपद्रवियों की पहचान की जा रही है। परिसदेशमुख, एसपी, नागौर

आनंदपाल की छोटी बेटी योगिता सिंह ने फोन पर कहा कि पुलिस ने परिजनों से धक्का-मुक्की की। बिना हमारी अनुमति दाह संस्कार किया है। यह गलत है। हम समाज के लोगों को साथ लेकर जो वे कहेंगे, उसी के अनुसार निर्णय करेंगे। हमारे साथ अन्याय हुआ है। हम कोर्ट का दरवाजा खटखटाएंगे। जहां से हमें न्याय की उम्मीद है। बड़ी बेटी चीनू ने भी ऑडियो जारी कर जबरन अंत्येष्टि की बात कही थी।

सांवराद में 12 जुलाई को शाम 7:30 बजे उपद्रवियों ने रेलवे ट्रैक उखाड़ दिया था। इसके बाद 24 घंटे तक 10 रेल सेवाएं प्रभावित रहीं। कुछ ट्रेन रद्द की गई और कुछ का संचालन बीकानेर-फुलेरा की तरफ से किया गया। गुरुवार देर शाम पटरियां वापस बिछाकर ट्रैक फिट घोषित कर दिया गया। पहले दिन केवल मालगाडिय़ों का संचालन हुआ। इनमें सुरक्षा के लिहाज से आरपीएफ जवान तैनात किए गए। शुक्रवार को सुबह 6:40 बजे रवाना होने वाली रतनगढ़- चूरू डीएमयू का संचालन रद्द रहा। दोपहर बाद भगत की कोठी- दिल्ली सरायरोहिल्ला, जोधपुर- हिसार अप डाउन का संचालन किया गया। इससे यात्रियों को राहत मिली है। जोधपुर- हिसार डीएमयू तकनीकी खराबी के कारण तीन घंटे, हिसार- जोधपुर डेढ़ घंटे, दिल्ली सरायरोहिल्ला- भगत की कोठी दो घंटे देरी से पहुंची। दोपहर बाद सभी ट्रेनों का संचालन डेगाना-रतनगढ़ होकर किया गया।

खबरें और भी हैं...