• Hindi News
  • National
  • खेत खरीदने नहीं, 22.60 लाख के नए नोट देकर 30 लाख के पुराने नोट लेने के लालच में आया था व्यापारी

खेत खरीदने नहीं, 22.60 लाख के नए नोट देकर 30 लाख के पुराने नोट लेने के लालच में आया था व्यापारी

5 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
{17 दिसंबर को हुई थी वारदात, सच्चाई छिपा दो दिन बाद दी रिपोर्ट

भास्करसंवाददाता | नागौर

जोधपुरके पेट्रोल पंप व्यवसायी से 22.60 लाख रुपए की लूट के मामले में रिपोर्ट दर्ज होने के बाद चौंकाने वाला खुलासा सामने आया है। लूट की वारदात करने वाले युवक कॉलेज के छात्र थे और उन्होंने जोधपुर के व्यवसायी पवन डांगा को नए नोट देकर 25 प्रतिशत कमीशन में पुराने नोट बदलवाने के लिए धोखे से बुलवाया था। यही नहीं वारदात से 2 मिनट पहले आरोपियों ने व्यवसायी डांगा को पुराने नोटों से भरा(हकीकत में खाली बैग) बैग भी दिखाया था। लूट की वारदात को जोधपुर हाइवे पर एक सूने प्लाट में बने कमरे में अंजाम दिया गया था।

अधिकृत सूत्रों के अनुसार नागौर कोतवाली में 22.60 लाख रुपए के नए नोटों की लूट की वारदात की रिपोर्ट मंगलवार को जोधपुर के नसिंग विहार लाल सागर निवासी पवन डांगा ने दर्ज कराई थी। रिपोर्ट में बताया कि वह जमीन का सौदा करने भाई राघव गांधी के साथ आया था। सिंघाणी रोड पर 3 नकाबपोशों के साथ मिलकर नोखा चांदावतां के मुकेश जाखड़ ने उससे 22.60 लाख की लूट की। सूत्रों ने बताया कि यह डील जमीन खरीदने के लिए नहीं बल्कि नए नोट देकर पुराने नोट बदलने के लिए हुई थी। इसके लिए 25% कमीशन तय था। मगर आरोपियों के पास कोई पुराने नोट नहीं थे और पवन को लूट लिया।

^फिलहाल जो रिपोर्ट मिली है, उसके अनुसार जांच कर रहे हैं। हां दिलीप सिंह महामंदिर जोधपुर में एसबीआई से जुड़ा व्यक्ति है, मगर कर्मचारी नहीं है। नए नोट कहां से आए, इसकी जांच आयकर विभाग करेगा। हम लूट मामले की जांच में जुटे हैं। भंवरलालदेवासी, कार्यवाहक कोतवाल नागौर।

^जोधपुर के व्यवसायी ने 22.60 लाख की लूट की रिपोर्ट दी है। खेत का सौदा नहीं होकर कमीशन के बहाने रुपए बदलने की बात भी हो सकती है। कुछ भी संभव है। पुलिस जांच कर रही है। नए नोट कहां से आए यह जांच भी की जा रही है। राजकुमारचौधरी, एएसपी नागौर।

दी कई जगह दबिशें : पुलिसने फरार आरोपी रमेश मेघवाल मुकेश जाखड़ की गिरफ्तारी के लिए बुधवार को उनके गांवों संदिग्ध ठिकानों पर भी दबिशें दी। मगर सुराग नहीं मिला।

खुलासा: वारदातकरने वाले पूर्व कॉलेज छात्र

नामजदआरोपी चावंडिया निवासी रामेश्वर उर्फ रमेश नोखा चांदावतां के मुकेश जाखड़ के फोटो भी सामने आए हैं। दोनों आरोपी कॉलेज के छात्र भी रहे हैं। दोनों युवकों ने वारदात को अंजाम देने के लिए साजिश रची। इनके साथ कुछ और लोग भी हैं। जिनके बारे में पुलिस तलाश कर रही है।

बड़ा सवाल : नोटबंदीमें 22.60 लाख के नए नोट कहां से आए, नहीं दिया जवाब

जोधपुरके व्यवसायी पवन डांगा ने 22.60 लाख की लूट की वारदात की जो रिपोर्ट दी है। उसमें बताया है कि यह सब 2-2 हजार के नए नोट थे। मगर नोट कहां से आए यह खुलासा रिपोर्ट में नहीं है। व्यवसायी डांगा मीडिया को बताने से बच रहे हैं। उनके साथ जोधपुर की महामंदिर क्षेत्र की बैंक से जुड़े एक एजेंट दिलीप सिंह का साथ होना भी सवाल खड़े कर रहा है। हालांकि कोतवाली पुलिस का कहना है कि नए नोट कहां से आए इसकी जांच का क्षेत्राधिकार उनका नहीं होकर आयकर विभाग का है, जबकि पुलिस इस दिशा में भी जांच कर रही है। आयकर विभाग को सूचना भेजी गई है।

रिपोर्ट में जोधपुर के व्यवसायी पवन डांगा ने बताया कि नागौर में एक होटल पर दिलीपसिंह रमेश साथ मिले। जबकि दिलीप सिंह जोधपुर से पवन डांगा के साथ आया था। कोतवाली पुलिस ने भी इसकी पुष्टि की है कि दिलीप सिंह जोधपुर में महामंदिर में एक बैंक से जुड़ा है हालांकि वह बैंक का कार्मिक नहीं है। मगर कलेक्शन एजेंट होने की पुष्टि हुई है।

2

3

1

जमीन नहीं, नोट बदलने का था मामला

रमेशमुकेश जाखड़ दो बाइकों पर पवन दिलीप को बैठाकर 17 दिसंबर को दोपहर में सिंघाणी रोड तक ले गए थे। यह बात सही है। मगर वहां जाने पर एक भूखंड में पहले से एक युवक खाली बैग लिए बैठा था। रमेश मुकेश ने डांगा को बताया कि पुराने नोट इसी बैग में हैं, जबकि बैग खाली था। दो और युवकों के आने पवन से मारपीट कर 22.60 लाख लूट कर ले भागे।

बैंक से जुड़ा दिलीप सिंह साथ आया

रमेश ने बिचौलिए सुरेश को दिया लालच

चावंडियाका रामेश्वर उर्फ रमेश मेघवाल जोधपुर में काम करने वाले सुरेश मेघवाल का परिचित है। रमेश ने सुरेश को फोन करके कहा कि कोई नए नोट कमीशन लेकर देने वाला हो तो बताना, मेरे पास 30 लाख के पुराने नोट पड़े हैं। बिचौलिए बने सुरेश ने इस पर जोधपुर के पेट्रोल पंप व्यवसायी पवन डांगा से संपर्क किया। इसके बाद डील तय हुई।

रमेश

मुकेश

सूत्रों के अनुसार पीड़ित पक्ष ने 17 से 19 दिसंबर तक पीड़ित पक्ष ने बिचौलिए सुरेश के साथ आरोपियों के घर जा पैसे निकलवाने का प्रयास किया। व्यवसायी ने कागजात तैयार किए ताकि रिपोर्ट दर्ज कराने पर जमीन का सौदा दिखा सकें। इसके बाद खींवसर नागौर के 2 भाजपा नेताओं की मदद से पवन कोतवाली पहुंचा जमीन सौदे की वजह से लूट होने की रिपोर्ट दी।

4

दो दिन कागज तैयार कर भाजपा नेताओं के सहयोग से थाने पहुंचे

खबरें और भी हैं...