• Hindi News
  • Rajasthan
  • Baggad
  • बेल्जियम की युवतियों ने संस्कृत को बताया दुनिया की श्रेष्ठ भाषा
--Advertisement--

बेल्जियम की युवतियों ने संस्कृत को बताया दुनिया की श्रेष्ठ भाषा

Baggad News - जैनविश्व भारती विश्वविद्यालय के प्राच्य विद्या एवं भाषा विभाग तथा जैन विद्या एवं तुलनात्मक धर्म दर्शन विभाग के...

Dainik Bhaskar

Aug 06, 2017, 03:35 AM IST
बेल्जियम की युवतियों ने संस्कृत को बताया दुनिया की श्रेष्ठ भाषा
जैनविश्व भारती विश्वविद्यालय के प्राच्य विद्या एवं भाषा विभाग तथा जैन विद्या एवं तुलनात्मक धर्म दर्शन विभाग के संयुक्त तत्वावधान में संस्कृत दिवस के अवसर पर समारोह का आयोजन किया गया। समारोह के अध्यक्ष राष्ट्रपति पुरस्कार विजेता प्रो. दामोदर शास्त्री ने कहा कि संस्कृत शुद्धि की भाषा है और इसे अशुद्ध बोला लिखा जाना अनुचित है। उन्होंने संस्कृत को जनभाषा बनाने की बात करने वालों के लिए कहा कि ऐसे लोग संस्कृत को अपभ्रंश में बदलने की चेष्टा करते हैं। मुख्य अतिथि विश्वविद्यालय के रजिस्ट्रार वीके कक्कड़ ने संस्कृत को समृद्ध भाषा एवं सभी भाषाओं की जननी बताते हुए कहा कि इस भाषा को रोजमर्रा की भाषा और सामाजिक गतिविधियों की भाषा बनाए जाने की जरूरत है। आचार्य कालू कन्या महिला महाविद्यालय के प्राचार्य प्रो. आनंद प्रकाश ने भी विचार व्यक्त किए।

हरभाषा में मिल जाएंगे संस्कृत के शब्द

कार्यक्रममें बेल्जियम से आई विदेशी युवतियों कैटो नैगी ने संस्कृत भाषा में अपना संयुक्त वक्तव्य पेश करते हुए संस्कृत साहित्य को विशाल तथा उपयोगी बताया संस्कृत भाषा को श्रेष्ठ कहा। जैन दर्शन एवं तुलनात्मक धर्म दर्शन विभाग की विभागाध्यक्ष समणी ऋजुप्रज्ञा ने संस्कृत को सरस समृद्ध भाषा बताते हुए कहा कि प्रत्येक भाषा में संस्कृत के शब्द मिल जाएंगे। समणी सम्यक प्रज्ञा ने कहा कि संस्कृत वेद, उपनिषद, पुराण, टीका, न्यायशास्त्र, योग दर्शन, जैन ग्रंथों आदि की भाषा रही है। यह समृद्ध भाषा है और भारत में जनभाषा रही थी। समणी संगीप्रज्ञा ने भी विचार व्यक्त किए। कार्यक्रम में उप रजिस्ट्रार डाॅ. प्रद्युम्न सिंह शेखावत, विजय कुमार शर्मा, डाॅ. जुगल किशोर दाधीच, डाॅ. विवेक माहेश्वरी, डाॅ. रविंद्र सिंह राठौड़ शोधार्थी आदि उपस्थित रहे।

जसवंतगढ़| सेठसूरजमल तापड़िया आचार्य संस्कृत महाविद्यालय द्वारा संस्कृत दिवस के उपलक्ष्य में रैली निकालकर आमजन को संस्कृत के प्रति जागरूक किया। संस्कृत प्रभात फेरी को प्राचार्य डाॅ. हेमंतकृष्ण मिश्र ने हरी झंडी दिखाकर रवाना किया। ट्रस्टी बजरंगलाल तापड़िया के निवास पर सभी विद्यार्थियों का पुष्प वर्षा कर स्वागत किया गया। गली नंबर दो में पवन कुमार भंडारी हेमराज सोनी ने भी विद्यार्थियों का उत्साहवर्धन करते हुए उन्हें चॉकलेट बिस्किट भेंट किए। रघुनाथ मंदिर के अर्चक पं. सीताराम उपाध्याय ने रैली को संबोधित किया। रैली में भगवती प्रसाद बगड़िया, डाॅ. अलका शर्मा, मंजू, राकेश नेहरा, सुनीता, ज्योति, राकेश यादव, सुमन सैन, अरुण शर्मा, जयपालसिंह, श्रीकांत तूनवाल, कैलाश आदि थे।

लाडनूं. जैन विश्व भारती विश्वविद्यालय में आयोजित समारोह में उपस्थित लोग।

X
बेल्जियम की युवतियों ने संस्कृत को बताया दुनिया की श्रेष्ठ भाषा
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..