• Hindi News
  • National
  • वृद्ध की हत्या कर शव जलाया, खेत में जली लकड़ियों के ढेर में मिली खोपड़ी

वृद्ध की हत्या कर शव जलाया, खेत में जली लकड़ियों के ढेर में मिली खोपड़ी

4 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
घटना स्थल पर जांच करते पुलिसकर्मी।

भास्कर संवाददाता| पाली

देसूरीथाना क्षेत्र के आना ग्राम की सरहद में गिराली मार्ग पर स्थित बेरा भंडारिया पर शनिवार को एक वृद्ध की खोपड़ी लकड़ी के ढेर में जली हुई मिली। यह खेत गांव के प्रतापसिंह राजपूत (55) पुत्र भीखसिंह का है। प्रतापसिंह राजपूत शुक्रवार दोपहर को खेत में रबी की फसल में पानी पिलाने के लिए घर से निकला था, जिसके शनिवार दोपहर तक भी घर नहीं लौटने पर चिंतित परिजनों ने खोजबीन की। उसके परिजनों का आरोप है कि किसी ने हत्या कर वृद्ध का शव जला दिया। पुलिस ने जली हुई लकडिय़ों के ढेर (राख) से खोपड़ी के साथ हड्डियां भी बरामद की है, जिसकी डीएनए जांच के लिए भेजा जाएगा। एएसपी अताउर रहमान, सीओ बाली गुलाबसिंह, देसूरी एसएचओ सुरेंद्रसिंह भाटी के साथ एफएसएल टीम ने भी मौका मुआयना किया। घटना को लेकर अभी तक पुलिस भी कुछ नहीं कह रही है। लकडिय़ों का पूरा ढेर जल गया था, जबकि मृतक की सिर्फ खोपड़ी और पैर की एक हड्डी बची हैं। मृतक आना ग्राम दुग्ध उत्पादक सहकारी समिति लिमिटेड का अध्यक्ष था। मृतक श्री सोनाणा खेतलाजी ट्रस्ट सारंगवास के पूर्व अध्यक्ष एवं पूर्व सरपंच राजूसिंह सोलंकी के छोटा भाई थी। पुलिस हर पहलू को ध्यान में रखते हुए मामले की जांच कर आरोपियों का पता लगाने में जुटी है।

भाईने खोपड़ी देख पुलिस को बुलाया

आनानिवासी गोपालसिंह पुत्र भीकसिंह राजपूत ने बताया कि उसका छोटा भाई प्रतापसिंह शुक्रवार दोपहर बाद अपने खेत बेरा भंडारिया पर रबी की फसल में सिंचाई करने का कहते हुए घर से निकला था। शनिवार सुबह घर पर नहीं पहुंचने पर उसकी प|ी से पूछा ने बताया कि अभी तक बेरे पर होंगे। दोपहर तक भी घर नहीं पहुंचने के बाद गोपालसिंह उसकी तलाश शुरू कर शाम चार बजे के आसपास बेरे पर उसको ढूंढने के लिए गया। वहा पर उसकी बाइक पड़ी हुई थी, मगर प्रतापसिंह वहा पर नहीं मिला तो आसपास के कुओं पर उसकी तलाश की। कुछ देर बाद वापस अपने बेरे पर लौटने पर मुख्य द्वार के पास तारबंदी के पास ही लकडिय़ां जली हुई पड़ी थी, जिसमें खोपड़ी देखने पर गोपालसिंह ने परिजनों पुलिस को सूचना देकर बुलाया।

खबरें और भी हैं...