पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • National
  • सैनिकों को कैंटीन में 20 दिनों से नहीं मिल रहा सामान

सैनिकों को कैंटीन में 20 दिनों से नहीं मिल रहा सामान

4 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
आसपास क्षेत्र में एकमात्र कैंटीन

दरअसलचिंकारा सीएसडी कैंटीन आसपास क्षेत्र में एक मात्र कैंटीन है। यहां बहरोड़ के अलावा नीमराना, मांढ़ण, मुंडावर, बानसूर, सीकर जिले के पाटन, हरियाणा के अटेली, नारनौल एवं कोटपूतली के आर्मी से जुड़े उपभोक्ता सामान खरीद करने आते हैं। जिससे कैंटीन में उपभोक्ताओं की संख्या 10 हजार 625 रजिस्टर्ड है। इसके अलावा प्रतिमाह छुट्टी आने वाले सैकड़ों सैनिक भी परिवार की जरूरत के हिसाब से घरेलू सामान की खरीद करते हैं।

भास्कर न्यूज | बहरोड़

देशमें 1 जुलाई से जीएसटी लागू हो चुका है। लेकिन सॉफ्टवेयर अपडेट नहीं होने से लोगों की परेशानी बढ़नी शुरू हो गई है। जिसका खामियाजा सीएसडी कैंटीन से जुड़े सैनिकों के परिजन, पूर्व सैनिकों वीरांगनाओं को भुगतना पड़ रहा है। पिछले एक पखवाड़े से सामान खरीदने के लिए उपभोक्ता चक्कर लगाकर परेशान हो रहे हैं। दरअसल कैंटीन के 10 हजार 625 उपभोक्ता है। जिनके द्वारा प्रतिमाह करीब डेढ़ करोड़ रुपए का सामान खरीद किया जाता है। कैंटीन पर सामान नहीं होने से खरीद के लिए परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। प्रतिदिन क्षेत्र के हजारों लोग घरेलू सामान लेने की आस लिए चिंकारा कैंटीन पहुंचते हैं। लेकिन सामान नहीं मिलने से निराश होकर बैरंग लोटना पड़ता है। खास बात है कि उपभोक्ताओं को शराब उपलब्ध हो रही है। हालांकि कैंटीन के लैंड लाइन नंबर पर भी उपभोक्ता फोन कर सामान आने की जानकारी करते हैं। लेकिन जिनके पास लैंड लाइन नंबर नहीं है। उन्हें परेशानी हो रही है। जिससे उन्हें बाजार गांवों में संचालित दुकानों से मंहगें दामों में सामान खरीद करना मजबूरी बना हुआ है। मैनेजर कैप्टन गजेंद्र सिंह ने बताया कि सामान की डिमांड डिपो को भेजी हुई है। संभावना है कि इस माह के अंतिम सप्ताह तक सामान जाएगा। जिसके बाद उपभोक्ताओं को वितरण किया जाएगा।

डेढ़करोड़ से अधिक है टर्नओवर

कैंटीनमैनेजर कैप्टन गजेंद्र सिंह ने बताया कि क्षेत्र में सैनिकों की संख्या अधिक होने के साथ ही उपभोक्ताओं की संख्या भी काफी है। जिससे प्रतिमाह करीब डेढ़ करोड़ से अधिक का प्रतिमाह टर्न ओवर होता है। उपभोक्ताओं की घरेलू एवं दैनिक उपयोगी वस्तुओं में प्रसाधन सामग्री की अधिक खरीद की जाती है।

माहमें दो बार आता है सामान : कैंटीनमें सामान की बिक्री अधिक होती है। उपभोक्ताओं की जरुरतों को पूरा करने के लिए डिमांड के अनुसार पूरा सामान रहता है। जिसका कारण है कि आसपास के उपभोक्ता यहां से सामान खरीद करते हैं। शेष| पेज 16



उपभोक्ताओंकी डिमांड को पूरा करने के लिए प्रतिमाह की 9-10 तथा 25-26 तारीख को सामान आता है।



25 जुलाई तक सामान वितरण की संभावना

मैनेजर रिटायर्ड कैप्टन गजेंद्र सिंह ने बताया कि डिपो को सामान भेजने की डिमांड भेजी गई है। संभावना है कि 23 या 24 जुलाई तक सामान जाएगा। 25 जुलाई से सामान का वितरण किया जाएगा। अभी शैंपू, तेल तथा अन्य तीन-चार सामान कम मात्रा में है। हालांकि शराब की लगातार बिक्री जा रही है।

सीएसडी कैंटीन

खबरें और भी हैं...