पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • पद्मश्री जैन को श्रद्धांजलि

पद्मश्री जैन को श्रद्धांजलि

7 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
बाड़मेर. जिलेके एक मात्र पद्मश्री से सम्मानित समाजसेवी मगराज जैन के निधन पर ‘श्योर’ कार्यालय में गुरुवार को श्रद्धांजलि सभा का आयोजन किया। सभा में जैन के व्यक्तित्व एवं कृतित्व पर प्रकाश डाला गया। संस्था अध्यक्ष मदनलाल सिंहल ने कहा कि जैन के निधन से जिले में ही नहीं समूचे राजस्थान में शोक व्याप्त है। जैन जो काम हाथ में लेते उसे पूरा करके ही रहते थे। सिंहल ने बताया कि जैन का अध्ययन काल से ही समाजसेवा के प्रति गहरी रुचि थी। संस्था की संयुक्त सचिव लता कच्छवाह ने कहा कि जैन ने दलित एवं वंचित समुदाय के लिए सराहनीय पहल की। दस्तकारी महिलाओं की हस्तकला के विकास को भी जैन ने नया आयाम दिए। कच्छवाह ने बताया कि जैन ने मांगणियार जाति की लोक कला के उत्थान के लिए महत्वपूर्ण कार्य किया। डेयरी परियोजना कार्यक्रम के अधिकारी हनुमानाराम चौधरी ने जैन के बारे में जानकारी देते हुए बताया कि जैन गौभक्त थे।





आयंबिल शाला में सभा आयोजित : खरतरगच्छीय आयंबिल शाला में आयोजित शोकसभा में पद्मश्री मगराज जैन के निधन पर उन्हें श्रद्धांजलि दी गई। जैन के विरल व्यक्तित्व एवं अविस्मरणीय कृतित्व की जानकारी दी। शिक्षाविद डाॅ.बी.डी. तातेड़ ने कहा कि देश ने कला संस्कृति प्रेमी को खो दिया है जिसकी क्षतिपूर्ति असंभव है। वरिष्ठ अधिवक्ता संपतराज बोथरा ने कहा कि जैन ने कृषि और रोजगार के क्षेत्र में महत्वपूर्ण कार्य किए। इस दौरान पारसमल छाजेड़, बुधचंद भंसाली, महेन्द्र कुमार मालू, ओमप्रकाश संखलेचा ने भी विचार व्यक्त किए। शोकसभा में भंवरलाल सेठिया, संपतराज लूणिया, पवन संखलेचा, श्रवण मालू, घेवरचन्द बोथरा, पारसमल नाहटा, केवलचन्द भंसाली, देवीचन्द बोथरा मौजूद थे।



लूणवा चारणान: समाजसेवी मगराज जैन के निधन पर लूणवा चारणान के दुग्ध अवशीतलन केंद्र में दुग्ध उत्पादन समिति द्वारा शोक सभा का आयोजन कर उन्हें श्रद्वासुमन अर्पित किए। समिति सचिव सुरताराम बिश्नोई, डेयरी परियोजना के सहायक प्रबंधक मालाराम गोदारा, सुपरवाइजर सोनाराम, चोखाराम गांव में दो मिनट को मौन रखा और प्रार्थना की। जैन को 1989 में भारत के तत्कालीन राष्ट्रपति आर.वेंकटरमन ने समाज सेवा के लिए उन्हें पद्मश्री से नवाजा।