पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • दावेदारों पर चल रहा विचार, तस्वीर नहीं साफ

दावेदारों पर चल रहा विचार, तस्वीर नहीं साफ

7 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
दावेदारी को लेकर कांग्रेस में अंतर्कलह!

भ्रष्टाचार विरोधी संयुक्त मोर्चा भी उतारेगा उम्मीदवार

प्रदेशमें लोकसभा और विधानसभा चुनाव में हार का सामना कर चुकी कांग्रेस को फिर से मजबूती के साथ खड़ा करने में जुटे पार्टी के आला नेताओं की नसीहत स्थानीय स्तर पर सिफर हो रही है। पार्टी के उम्मीदवारों की सूची फाइनल होने से पहले ही स्थानीय स्तर पर पदाधिकारियों की नाराजगी सड़क पर आना शुरू हो गई है। दावेदारों के चयन प्रक्रिया, रायशुमारी में तवज्जो नहीं मिलने से सिर्फ कांग्रेस के सबसे अग्रिम संगठन सेवादल महत्वपूर्ण संगठन यूथ कांग्रेस समेत एनएसयूआई के आला पदाधिकारियों ने विरोध का बिगुल बजाना शुरू कर दिया है। यही नहीं कांग्रेस के अंदरूनी हालात इतने गंभीर है कि अपनी उपेक्षा झेल चुके कुछ कद्दावर नेता संगठन को छोड़कर भाजपा में शामिल होने का मानस भी बना चुके हैं। ऐसे में कांग्रेस का अंतर्कलह नगर परिषद के भावी चुनाव में खड़े होने वाले पार्टी के प्रत्याशियों की जीत पर सबसे बड़ा खतरा माना जा रहा है। वहीं भाजपा के लिए इसे फायदेमंद बताया जा रहा है।

सेवादलअध्यक्ष ने चुनाव संयोजक ब्लॉक अध्यक्ष की कार्यशैली को नकारा : ब्यावरशहर जिला कांग्रेस सेवादल के जिला मुख्य संगठक सोहन मेवाड़ा ने वार्ड में काम करने वाले कार्यकर्ताओं को दावेदारी करने में तवज्जो नहीं मिलने से खासा रोष व्याप्त है। मेवाड़ा ने पार्टी के ब्लॉक अध्यक्ष डॉ. एससी जैन और चुनाव संयोजक दिनेश शर्मा की कार्यशैली पर सवाल उठाते हुए आरोप लगाया कि दावेदारों के चयन में किसी भी संगठन के पदाधिकारियों से राय नहीं ली गई। साथ ही पार्टी के लिए महत्व रखने वाले कार्यकर्ताओं को तवज्जो नहीं दी गई। मेवाड़ा ने डॉ. जैन को संगठन की जिम्मेदारी निष्ठापूर्वक निभाने में असमर्थ करार दिया।

विधानसभा चुनाव की तर्ज पर देने पड़ेंगे शपथ पत्र

निर्वाचनविभाग ने इस बार निकाय चुनाव को लेकर गंभीरता बरतते हुए निकाय चुनाव में भी उम्मीदवारों से नामांकन के साथ शपथ पत्र लेने का निर्णय लिया है। ऐसे में विधानसभा की तर्ज पर अब निकाय चुनाव में भी उम्मीदवारों को दो-दो शपथ पत्र प्रस्तुत करने होंगे। इसमें एक में संतान संबंधी विवरण तो दूसरे शपथ में खुद की संपति, शिक्षा सहित आपराधिक रिकॉर्ड संबंधी ब्यौरा देना होगा।

निकायचुनाव प्रक्रिया पर एक नजर

>नामांकन पत्र 7 नवंबर से