पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • National
  • जिस परिवार में स्नेह, वात्सल्य और प्रेम का भाव वह अवध के समान

जिस परिवार में स्नेह, वात्सल्य और प्रेम का भाव वह अवध के समान

4 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
ब्यावर| स्वामीब्रह्मानंद सत्संग मंडल की ओर से उदयपुर रोड स्थित ब्रह्मानंद धाम पर चार्तुमास के दौरान बोलते हुए संत सत्यानंद महाराज ने कहा कि भगवान को मानने वाला व्यक्ति ही परिवार, समाज कानून को मानेगा। जो भगवान को नहीं मानता है वही किसी को नहीं मानेगा। जिस परिवार में स्नेह, वात्सल्य, प्रेम, आदर के भाव हैं वह घर अवध के समान है। घर परिवार में प्रभु अवश्य आते हैं जब चित्त पूर्ण रूप से शांत हो। उन्होंने कहा कि भक्ति का होना जीवन में जरूरी है। भगवान की भक्ति के बिना धर्म, धुरंधर, गुणगान, नीतिवान, ज्ञानवान नहीं बन सकता। इस दौरान गणपतलाल सर्राफ, केके मिश्रा, बालकिशन गुप्ता, नरेंद्र झंवर, सत्यनारायण शर्मा, मुकुट बिहारी गोयल, रमेश शर्मा, सत्यनारायण अग्रवाल जगदीश रायपुरिया सहित अन्य लोग शामिल थे।

खबरें और भी हैं...