पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • 500 अति कुपोषित बच्चों का होगा इलाज

500 अति कुपोषित बच्चों का होगा इलाज

7 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
जिलेमें अति कुपोषित सभी बच्चों का इलाज किया जाएगा। इसके लिए सभी ब्लॉक मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारियों को पाबंद किया गया है। तीन अप्रेल तक जिले के पांच सौ अति कुपोषित बच्चे को स्वस्थ करने का लक्ष्य रखा हैं। क्षेत्र के अति कुपोषित बच्चों के इलाज में कोताही बरतने वाले ब्लॉक मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारियों को नोटिस जारी किए जाने के निर्देश दिए तथा कार्यकुशलता में अभिवृद्धि नहीं होने पर उनके विरुद्घ चार्जशीट भी दी जा सकती हैं।

शेष|पेज19

कलक्टरडॉ. जितेन्द्र कुमार सोनी शुक्रवार को जिले में अति कुपोषित बच्चों का इलाज करवाने के लिए कलेक्ट्रेट सभागार में आयोजित बैठक में चिकित्सा महकमे के अधिकारियों को निर्देश दे रहे थे। उन्होंने बताया कि जिला सार्वजनिक चिकित्सालय जालोर, सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र भीनमाल, सांचौर आहोर में अति कुपोषित बच्चों के इलाज के लिए विशेष सुविधाएं दी गई हैं ,जहां अबतक 94 बच्चें स्वस्थ हो चुके हैं।

बैठकमें ये थे मौजूद : बैठकमें मुख्य कार्यकारी अधिकारी जवाहर चौधरी, मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. गजेन्द्रसिंह देवल, कुपोषण ट्रीटमेंट सेंटर प्रभारी डॉ. त्रिलोकचंद चौहान, महिला अधिकारिता विभाग के कार्यक्रम अधिकारी डॉ. सूर्यप्रकाश शर्मा, एनआरएचएम के जिला परियोजना प्रबंधक चरणसिंह, यूनिसेफ के जिला समन्वयक इंद्रराज सिंह भी उपस्थित थे।

बच्चे नहीं होने पर देना होगा प्रमाण पत्र

उपस्वास्थ्य केन्द्र के कार्यक्षेत्र में कुपोषित बच्चें नहीं होने का प्रमाणपत्र एएनएम बीसीएमएचओ को देंगे। ब्लॉक मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी ब्लॉक में कुपोषित बच्चे नहीं होने का प्रमाणपत्र मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी को देंगे। महिला पर्यवेक्षक और साथिन अपने क्षेत्र के कुपोषित बच्चों पर नजर रखेगी तथा इलाज के दौरान आशा सहयोगिनी की ओर से फोलोअप किया जाएगा।