• Hindi News
  • Rajasthan
  • Bundi
  • व्याख्यान माला में ध्रुव पद गायन की सिखाई बारीकियां
विज्ञापन

व्याख्यान माला में ध्रुव पद गायन की सिखाई बारीकियां

Dainik Bhaskar

Oct 18, 2015, 02:20 AM IST

Bundi News - बूंदी. पीजीकॉलेज युवा विकास केंद्र, स्पिकमैके की ओर से शनिवार को संगीत विभाग में विख्यात कलाकार सुनीता अवनि अमीन...

व्याख्यान माला में ध्रुव पद गायन की सिखाई बारीकियां
  • comment
बूंदी. पीजीकॉलेज युवा विकास केंद्र, स्पिकमैके की ओर से शनिवार को संगीत विभाग में विख्यात कलाकार सुनीता अवनि अमीन द्वारा संगीत कला का व्यक्तित्व विकास पर प्रभाव विषय पर व्याख्यान तथा ध्रुव पद गायन का प्रदर्शन किया गया।

इस दौरान उन्होंने विद्यार्थियों को ध्रुव पद गायन की बारीकियां बताते हुए कहा कि स्पिकमैके की व्याख्यान माला, प्रदर्शन शृंखला का लाभ उठाएं। इसमें उन्हें संगीत क्षेत्र के बड़े कलाकारों से सीधे संवाद का अवसर मिलता है। कलाकार सुनीता अवनि ने बताया कि ध्रुव पद मंदिरों में गाई जाने वाली प्राचीन परंपरा है, जो व्यक्तित्व में ओज और चित्त में शांति प्रदान करती है, जिसे बाद में डागर घराने ने जीवित रखा। इसी घराने की गुरु-शिष्य परंपरा की कलाकार अमीन ने व्याख्याता डा. मणि भारतीय सहित संगीत विभिन्न विषयों के छात्र-छात्राओं से राग मालकोस में निबद्ध रचना गुरु प्रसाद का गायन करवाया। इस रचना में पहले आलाप और इसके बाद पखावज के साथ ध्रुपद की गंभीरता सरसता को एक साथ प्रकट किया। पखावज पर उनके साथ मध्यप्रदेश के वादक पं. संजय आगले ने कुशल संगत की। केंद्र प्रभारी डॉ. ललित भारतीय ने बताया कि कार्यशाला की शुरुआत में कलाकारों ने सरस्वती के चित्र के सम्मुख दीप प्रज्जवलित किया और माल्यार्पण किया। विजयेंद्र गौतम, विभा माथुर, घनश्याम राव, डा. रजनी पांडे ने कलाकारों काे स्मृति चिन्ह भेंट किए।

बूंदी। पीजी कॉलेज में ध्रुवपद गायन की जानकारी देती स्पिकमैके की विख्यात कलाकार सुनीता अवनी।

X
व्याख्यान माला में ध्रुव पद गायन की सिखाई बारीकियां
COMMENT
Astrology

Recommended

Click to listen..
विज्ञापन
विज्ञापन