• Hindi News
  • National
  • कितनी बार बिजली गई कितनी आई, सब पता कर सकेंगे लोग

कितनी बार बिजली गई-कितनी आई, सब पता कर सकेंगे लोग

4 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
लोगअब पता लगा सकेंगे कि उनके इलाके में कितनी बार बिजली गई, कब आई, कितनी बिजली मिली, बिजली कटी तो किस वजह से...आदि-आदि।

जयपुर डिस्कॉम अपने उपभोक्ताओं को लंबे-चौड़े गलत-सलत बिलों, मीटर रीडिंग ना लेने या गलत लेने, कनेक्शन के लिए जेईएन, एईएन दफ्तर में जूतियां घिसने, बिल भरने के लिए लाइनें लगाने सहित अन्य शिकायतों को दूर करने के लिए आईटी का सहारा लेने जा रहा है। इसके लिए बिजली मित्र एप उपभोक्ताओं के लिए और बिजली प्रबंधन एप मैनेजमेंट, विधायक, सांसदों, सरपंचों आदि जनप्रतिनिधियों के लिए। उन्हें इसके लिए सेपरेट कोड दिए जाएंगे। अक्सर लोगों को शिकायत रहती है कि उन्हें सरकारी दावों के उलट कम बिजली दी जाती है। जो दूर हो जाएगी। सुधार की ओर कदम बढ़ा रहा बिजली महकमा आईटी से हाथ मिलाने जा रहा है। फायदा यह होगा कि बिजली से जुड़े ज्यादातर मामलों के लिए लोगों को बिजली दफ्तरों में नहीं जाना होगा। इससे भ्रष्टाचार से भी राहत मिलेगी, काम भी जल्द होंगे। बूंदी आए जयपुर डिस्कॉम के टेक्निकल डायरेक्टर नवीन अरोड़ा ने भास्कर को बताया कि बिजली निगम खुली ट्रांसपेरेंसी व्यवस्था अपनाने जा रहा है। धौलपुर से अगले महीने इसकी शुरूआत होगी और मार्च 2018 से प्रदेश में भी यही व्यवस्था लागू कर दी जाएगी। इसके अलावा हर फीडर का इंचार्ज बनाया गया है। मीटर रीडिंग, बिल बांटने सहित अन्य जिम्मेदारी उसी की रहेगी।

बूंदी. अधिकारियों की बैठक लेते जयपुर डिस्कॉम के टेक्निकल डायरेक्टर नवीन अरोड़ा।

खबरें और भी हैं...