पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • National
  • राजकीय गर्ल्स कॉलेज में 175 छात्राओं का प्रवेश व्याख्याता और क्लास रूम अभी तक उपलब्ध नहीं

राजकीय गर्ल्स कॉलेज में 175 छात्राओं का प्रवेश व्याख्याता और क्लास रूम अभी तक उपलब्ध नहीं

4 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
जिलामुख्यालय पर इसी सत्र से बेटियों के लिए राजकीय गर्ल्स कॉलेज खुलने की खुशी बिना स्टाफ और कक्षा कक्ष के परेशानी में बदलने लगी है। चूरू में स्वीकृत राजकीय गर्ल्स कॉलेज फिलहाल राजकीय लोहिया कॉलेज में ही संचालित हो रही है।

सरकारी गर्ल्स कॉलेज खुलते ही इस साल 160 सीटों के मुकाबले 200 छात्राओं ने आवदेन दिए। कॉलेज खुलने के बाद कार्यवाहक प्राचार्य के रूप में नियुक्ति कर दी गई और कॉलेज के दो व्याख्याताओं को आवेदन प्रक्रिया की जिम्मेदारी। इसके बाद सरकार द्वारा सभी कॉलेजों में सीटों में की गई बढ़ोतरी के चलते कॉलेज में 192 सीट हो गई। कॉलेज में अभी तक 175 छात्राओं का प्रवेश हो चुका है। 175 छात्राओं ने दस्तावेज जांच करवाने के साथ ही फीस भी जमा करवा दी है। दूसरी ओर कॉलेज में अभी तक छात्राओं के लिए कक्षा कक्ष आबंटित किए गए और ना ही व्याख्याता लगाए गए। इस सत्र में कला संकाय के सात विषय स्वीकृत है, लेकिन व्याख्याता एक भी नहीं है, जिसके चलते अभी तक पढ़ाई भी शुरू नहीं हुई। अपनी अलग कॉलेज में पढ़ने का सपना लिए प्रवेश लेने वाली छात्राओं की व्याख्याताओं की नियुक्ति नहीं होने के कारण चिंता बढ़ती जा रही है। बताया जा रहा है कि यदि व्याख्याता उपलब्ध नहीं हुए, तो राजकीय गर्ल्स कॉलेज की छात्राओं को राजकीय लोहिया कॉलेज के विद्यार्थियों के साथ ही पढ़ाई करवाई जाएगी। ऐसे में अगल कॉलेज की कोई उपयोगिता नहीं होगी।

छात्राओं के साथ साथ उनके अभिभावकों को भी पढ़ाई को लेकर चिंता होने लगी है। हालांकि कॉलेज प्रशासन ने नव स्वीकृत राजकीय गर्ल्स कॉलेज में व्याख्याताओं सहित अन्य स्टाफ की नियुक्ति को लेकर डायरेक्ट्रेट को लिखित में भी अवगत करवाया है।

राजकीय लोहिया कॉलेज में आवंटित गर्ल्स कॉलेज का कमरा।

चूरू में राजकीय गर्ल्स कॉलेज स्वीकृत होते ही छात्राओं ने प्रवेश के प्रति अच्छा रुझान दिखाया। दूसरी ओर सरकार उच्च शिक्षा ने स्वीकृति के अलावा अभी तक कॉलेज के मुताबिक किसी प्रकार की सुविधाएं उपलब्ध नहीं करवाई है। जब तक व्याख्याता नहीं लगाए जाएंगे, पढ़ाई बाधित होगी और उनका कोर्स भी पूरा होने की परेशानी रहेगी। सातविषय है स्वीकृत : राजकीयगर्ल्स कॉलेज में कला संकाय के सात विषय स्वीकृत है। हिंदी, अंग्रेजी, संस्कृत, राजनीति विज्ञान, इतिहास, भूगोल गृह विज्ञान के विषय स्वीकृत किए गए है।

राजकीय गर्ल्स कॉलेज प्रशासन के अनुसार नव स्वीकृत कॉलेज में पहला प्रवेश पूनिया का बास निवासी शिवानी पूनिया का हुआ। दादा हरलालसिंह पूनिया के साथ आई शिवानी ने बताया कि अलग से कॉलेज की सुविधा मिलने पर उसने प्रवेश लिया। हरलालसिंह ने बताया कि प्रवेश दिलवाने के साथ ही चूरू में होस्टल की भी व्यवस्था की है। कॉलेज में अभी तक स्टाफ भी नहीं लगाया गया। व्याख्याता नहीं होंगे, तो पढ़ाई कैसे होगी।

खबरें और भी हैं...