पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • नाहिला गांव में िफर दो लोगों को डेंगू

नाहिला गांव में िफर दो लोगों को डेंगू

7 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
भास्कर न्यूज | धौलपुर/राजाखेड़ा

जिलेमें डेंगू के मामलों में कमी होती नजर नहीं रही है। गुरुवार को भी राजाखेड़ा क्षेत्र के नाहिला गांव में डेंगू के दो संभावित मरीज मिले। इन दोनों मरीजों को जांच एवं इलाज के लिए धौलपुर के डॉ. मंगल सिंह सामान्य चिकित्सालय रैफर किया गया है। गांव में डेंगू की संभावना को देखते हुए स्वास्थ्य विभाग की टीम गुरुवार को भी गांव में जांच पड़ताल की। इस दौरान नाहिला के आसपास के गांवों में डोर टू डोर सर्वे किया और रोगियों के ब्लड सैंपल लिए।

स्वास्थ्य विभाग से मिली जानकारी के मुताबिक गुरुवार को नाहिला गांव में सर्वे के दौरान दो नए रोगियों जितेंद्र पुत्र निहाल सिंह एवं कीर्ति पुत्री निहाल सिंह में भी डेंगू के लक्षण देखे गए। ऐसे में इन दोनों ही रोगियों को तत्काल जांच एवं इलाज के लिए धौलपुर रैफर कर दिया गया।

वहीं गांव में करीब दो दर्जन अन्य बुखार से पीड़ित रोगियों के ब्लड सैंपल लेकर जांच के लिए भेजा गया है। गांव में पहुंचे डॉक्टरों के मुताबिक इसी कड़ी में नाहिला के आसपास के गांवों महुवन का पुरा, कुम्हारपुरा, भगवान पुरा, गडरपुरा एवं गढ़ी करीलपुर आदि गांवों में भी बुखार से पीडित रोगियों के ब्लड सैंपल लेकर जांच के लिए धौलपुर भेजा है। जांच रिपोर्ट आने पर इन रोगियों को जरूरत के मुताबिक उपचार दिया जाएगा।

एक दर्जन से अधिक हुई रोगियों की संख्या

नाहिलागांव में दो नए रोगी मिलने के बाद जिले में अब डेंगू के रोगियों की संख्या एक दर्जन के पार हो गई है। स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों के मुताबिक बुधवार तक भूराखेड़ा में 5 एवं नाहिला में 6 डेंगू के रोगियों को चिन्हित किया गया था। अब नाहिला में ही दो नए रोगी गए। ऐसे में डेंगू के कुल रोगियों की संख्या 13 हो गई है।

बढ़ रही मरीजों की संख्या

मौसमीबुखार के रोगियों की तादात बहुत ज्यादा है। इसका सही आंकड़ा स्वास्थ्य विभाग के पास भी नहीं है। जबकि जिले के समस्त अस्पतालों में बुखार के रोगियों का रेला लगा हुआ है। डॉक्टरों के मुताबिक ऐसे रोगियों की संख्या सैंकड़ों में है। सभी रोगियों का इलाज लक्षण के मुताबिक किया जा रहा है। कई रोगियों का बुखार तो डॉक्टरों के लिए भी रहस्य बन गया है। दरअसल सभी जांचे नार्मल आई है, बावजूद इसके बुखार छोड़ने का नाम नहीं ले रहा। ऐसे में डॉक्टर भी लक्षण के मुताबिक इलाज करने को मजबूर है।

राजाखेड़ा. ना